भगवा की शरण में..कभी मदर टेरेसा के भक्त अब खुद को घोषित कर रहे धर्मयोद्धा अभिमन्यु .. क्या बदल रहा है समय ??


समय का फेर माना जा सकता है इसे , कभी भगवा , हिंदुत्व , श्रीराम को साम्प्रदायिकता का दूसरा रूप मानने वाले आप पार्टी के विधायकों और मंत्रियों को अब हिन्दू ग्रन्थों के उदाहरण देने पड़ रहे हैं वो भी खुद को उसी सांचे में ढाल कर…

मामला है दिल्ली में एक छत्र राज्य करने की लालसा ले कर निकले अरविंद केजरीवाल के सबसे खासमखास सिपाही कपिल मिश्रा की बगावत से जुड़ा हुआ ..जहां उन्होंने हिंदुओं के पूज्य और प्रेरणास्रोत महाग्रन्थ महाभारत का उदाहरण दिया है ..

कपिल मिश्रा ने बयान दिया है कि लड़ना सीखा हूँ आप से ही केजरीवाल जी , ऐसे कैसे जाने दूंगा आपको .. केजरीवाल व उनकी सरकार के भ्रष्ट मंत्रियों की पूरी लिस्ट और सबूतों के साथ वो निकल पड़े हैं CBI में मुकदमा पंजीकृत करवाने जिसके बाद उन्हें आशा है कि उनके सारे आरोप सत्य पाए जाएंगे ..

कपिल मिश्रा ने खुद की तुलना चक्रव्यूह में घिरे अभिमन्यु से करते हुए केजरीवाल को दुष्ट दुर्योधन के समकक्ष रखा है और उनके संजय सिंह और मनीष सिसोदिया जैसे वफादारों को दुस्सासन जैसे अधर्मी योद्धाओ के बराबर मानते हुए कहा है कि अभिमन्यु इस चक्रव्यूह से या तो विजय हासिल कर के आएगा या दुष्टों से लड़ कर वीरगति पायेगा ..पर अब अभिमन्यु पीछे नहीं हटने वाला …

हिन्दू ग्रन्थों पर आप पार्टी की ऐसी अटूट श्रद्धा बदलते समय की एक नई कहानी लिख रहा जहां अब कई लोग धर्ममार्गी अभिमन्यु को अपना आदर्श मानने लगे हैं जिनकी आदर्श कभी मदर टेरेसा हुआ करती थीं ।।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...