Breaking News:

बीबी ने कहा 20 रूपये दे दो , बेटी मांग रही है . शौहर बोला – तेरा और तेरी बेटी का ठेका लिया है क्या मैंने ? जा , तलाक , तलाक , तलाक

बड़ा अजीब समय था वो जब अपने साथ निकाह कर के लाया शानू साजिया को बोल रहा था की तेरा और अपनी अर्थात तेरी बेटी का ठेका नहीं ले रखा है मैंने और सब समझाते रह गए फिर भी उसने सिर्फ २० रूपये को आधार और बहाना बना कर दे दिया तीन तलाक . अब उस बेसहारा के पास केवल अदालत और सरकार के अलावा कुछ भी नहीं है जहाँ को अपना दर्द कह सके …

मामला है उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद जिले का जहाँ इस बार तीन तलाक का आधार बना है केवल 20 रुपये. वो भी पैसे उनकी खुद की बेटी के लिए मांगे गए थे . बस यही बन गयी उसके बेसहारा होने की वजह और उसे मिला तीन तलाक . जब स्थानीय थाने से  48 घंटे बीत जाने के बाद भी कोई सहारा और न्याय नहीं मिला तो अब पीड़िता ने अदालत की शरण लेने का फैसला किया है . 

शौहर है फ़िरोज़ाबाद के थाना रसूलपुर मोहल्ला रसूलपुर का शानू जिसका निकाह लगभग पांच वर्ष पहले इटावा की रहने वाली शाजिया के साथ हुआ था । शानू फ़िरोज़ाबाद का परम्परागत चूडी का काम करता है। बाद में इन दोनों के २ बेटियां हुई जिसमे पहली चार वर्ष की कहकशां की और दूसरी आठ माह की आयशा है । शाजिया के अनुसार शादी के कुछ समय बाद से ही वह अपनी बीबी को आये दिन तंग करने लगा . शाजिया का ये भी कहना है की उसके शौहर के किसी दूसरी औरत से भी संबंध हैं . शुक्रवार शाम उसने अपनी बेटी के लिए बेटी की ही जिद पर  खाने-पीने की चीज खरीदने के लिए मात्र  20 रुपये मांगे तो शानू ने उसे बुरी तरह से  पीटा और इसी मुद्दे का बहाना बना कर तीन तलाक बोल कर अचानक ही बेसहारा कर डाला.

साजिया के रोने की आवाज सुन कर मोहल्ले के लोग वहां जमा हो  गए। सबने शानू को बहुत समझाया लेकिन शानू नहीं माना और अपनी जिद पर अड़ा रहा . साजिया गिड़गिड़ा कर रहम की भीख मांगती रही पर उसने दया नहीं दिखाई और उसको धक्के देकर बाहर निकाला . साजिया घर में वापस ना घुस सके इसके लिए शानू ने अपने घर में ताला लगा दिया और अपने परिजनों को ले कर कहीं चला गया .. बेसहारा साजिया को ऐसे में पड़ोसियों ने शरण की और और अगले दिन साजिया अपने बच्चो को ले कर थाने गयी पर वहां भी उसको कोई मदद नहीं मिली … 

सब साजिया ने अदालत का दरवाजा खटखटाने का फैसला किया है क्योंकि उसको अपनी दोनों बेटियों की चिंता है . बेटियों के भविष्य को बनाने के लिए साजिया उन्हें पढ़ाना चाहती है पर शानू का कहना है की वो उन बेटीयो से चूड़ी का काम करवाएगा . शौहर ने ये तीन तलाक उसके घर वालों के सामने दिया था , पर तब भी उसके ससुराल में किसी ने इसका विरोध नहीं किया था . खुद मात्र कक्षा नौ तक पढ़ी साजिया अपने और अपनी बेटियों के भविष्य को ले कर बहुत चिंतित है . उसका कहना है की सरकार और अदालत उसको न्याय दे …..

Share This Post