कभी दूसरों पर लगाती थी मुस्लिमों को टिकट ना देने का आरोप . अब खुद निकाला अपनी पार्टी से नसीमुद्दीन सिद्दीकी को

चुनाव से पहले जो मायावती जी किसी और पार्टी पर मुस्लिमों की अनदेखी करने का आरोप लगा कर टिकट आदि से वंचित करने का आरोप लगाती थी वही मायावती अचानक ही अपनी ही पार्टी के सबसे बड़े मुस्लिम चेहरे और बुरे समय में उनके साथी रहे उत्तर प्रदेश के एक बड़े मुस्लिम चेहरे नसीमुद्दीन सिद्दीकी को उनके बेटे सहित बेहद संगीन आरोप लगाते हुए तत्काल पार्टी से बाहर करने का फरमान सुना चुकी हैं . 

नसीमुद्दीन सिद्दीकी को और उनके बेटे को पार्टी से बाहर करने के पीछे मायावती जी का कहना ये है की नसीमुद्दीन सिद्दीकी और उनका बीटा अफ़ज़ल दोनों पार्टी के खिलाफ काम कर रहे थे और समाज में धन उगाही करने में संलिप्त थे .उनका कहना है की बाप बेटे दोनों चुनावों के समय टिकट बंटवारे में पैसे की उगाही कर रहे थे जिसके प्रमाण उनके पास हैं . 

ये बेहद अजीब वाक्या है की जहां मायावती जी अपनी पार्टी की हार के लिए EVM को जिम्मेदार बना रही थी वही अचानक ही उन्हें अपनी हार के पीछे नसीमुद्दीन सिद्दीकी दिखने लगे और सवाल ये भी उठ रहा है की यदि उन्हें ये पहले से पता था तो कार्यवाही में इतना समय क्यों लगा ?

Share This Post