नजरुल और शब्बीर खेती बाड़ी या कोई और व्यापार भी कर सकते थे .. पर बंगाल में उन्हें यही काम पसंद आया .

बंगाल में ना जाने वो कौन सी बयार बह रही है जिसमे बरकाती जैसे लोगों को कुछ भी किसी को भी कहने की छूट है तो नजरुल और शब्बीर जैसे लोगों को वहां कुछ भी करने में कोई डर नहीं .. रामनवमी में जय श्री राम बोल रहे लोगों को वहां पुलिस पीट रही है और टी वी पर खुलेआम भद्दी भद्दी गाली देने वाला बरकाती इस विषय में विचार करता है की वो लाल बत्ती लगा सकता है वो लाल बत्ती उतारे ..

मामला है कोलकाता के हावड़ा क्षेत्र के २४ परगना का . यहां पुलिस ने अवैध हथियारों का जखीरा पकड़ा है . २४ परगना के रवींद्र नगर संतोषपुर में पुलिस की ख़ुफ़िया विभाग और CID ने अचानक ही एक घर में छापा मार कर हथियारों का जखीरा और कारखाना पकड़ा है . यहां भारी मात्रा में प्रतिबंधित हथियार बरामद हुए जिसमे 38 अलग बोर की पिस्टल व लगभग इतनी ही मैगजीन बरामद की गयी .


पुलिस ने इन हथियारों के कारखाने के आगे खड़ी गाड़ियों में पुलिस और राज्य सरकार के तमाम विभागों के स्टीकर लगे पाए .. इस मामले पुलिस ने मोहम्मद नजरुल और मोहम्मद शब्बीर को गिरफ्तार किया . मकान मालिक भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है . पुलिस इतने बड़े हथियारों के जखीरे की बरमदगी के बाद अब नजरुल और शब्बीर से ये जानने का प्रयास कर रही है की वो इस जखीरे का प्रयोग कहाँ और किस के खिलाफ करने वाले थे . कारों पर लगे बंगाल सरकार के स्टीकर की भी जांच चल रही है की क्या किसी विभागीय व्यक्ति के सम्पर्क में हैं ये सारे अपराधी ? परिणाम कुछ भी हों पर बंगाल में इस प्रकार के हालत बनते चले जाए रहे हैं जहाँ सरकारी अमला अगर समय रहते नहीं चेता तो बरकाती जैसे लोगों को शब्बीर जैसे अपराधी अपना आदर्श बना कर गलती कर के भी अकड़ना शुरू कर देंगे ….

Share This Post