बैक की चालान पर्ची के पीछे गलती से छप गयी थी क़ुरान की आयतें.. प्रिंटिंग प्रेस के मालिक नवीन को पुलिस ने आतंकियों के अंदाज़ में पकड़ा

वैसे तो कर्णाटक पुलिस पर लेट लतीफी और ना सुनंने के लिए कई बार निशाने पर रही है पर जब मामला मुस्लिमों से जुड़ा होगा और इस्लामिक भावनाओं की बात हो तो कर्नाटक कांग्रेस शासन के साथ कर्णाटक पुलिस की चुस्ती और फुर्ती देखने लायक होती है . ठीक इसी प्रकार जैसे इस बार उसी कर्नाटक पुलिस के हत्थे चढ़ गया है नवीन जिसकी एक मानवीय भूल उस पर इतनी भारी पड़ रही है जिसके चलते उसे फ़ौरन ही गिरफ्तार कर लिया गया और गंभीर धाराओं में निरुद्ध कर के उस पर कड़ी कार्यवाही की शुरुआत की जा चुकी है .  

मामला है कर्नाटक के मैसूर का . यहाँ के एक बैंक की लापरवाही का बड़ा मामला तब लोगों के सामने आया जब उसकी जमा पर्ची को ले कर अचानक ही हंगामा खड़ा हो गया . बैंक की जमा पर्ची के पीछे कुछ मज़हबी लोगों को कुरआन की आयतें लिखी मिली जिसके बाद वहां हंगामा शुरू हो गया .फिर माना जाने लगा की कुरान के पन्नो पर ये चालान पर्ची छापी गयी है .. मामला रमज़ान के माह में मुसलमानो की मज़हबी आस्थाओं का था इसलिए कर्णाटक जिला प्रशासन से ले कर सत्ता के हुक्मरान फ़ौरन ही सतर्क हो गए और तत्काल कार्यवाही का आदेश पुलिस को मिला ..

या मामला कर्नाटक के मैसूर के के आर मोहल्ला में मौजूद के राष्ट्रीयकृत बैंक की शाखा में सामने आया था . इसकी वीडियो बना कर इसको सोसल मीडिया पर शेयर कर दिया गया जिसके बाद वहां के एक स्थानीय चैनल ने भी इसको जोर शोर से प्रचारित कर दिया .. मामला बढ़ते देख कर पुलिस ने कुरान की तौहीनी करने , कुरआन को फाड़ देने व् उसके पन्नों पर बैंक के जमा चालान प्रिंट करने वाले प्रिंटिंग प्रेस के मालिक नवीन को बेहद चुस्ती दिखाते हुए हिरासत में ले लिया गया है जिसके बाद उसे जेल भेज दिया गया है . अभी भी वहां के मज़हबी लोगों ने ऐसा करने वाले नवीन को सख्त सज़ा देने की मांग की है . सूत्रों के मुताबिक नवीन से ये मानवीय भूल थी जिसके चलते ऐसा हो गया पर नवीन की पुलिस ने एक नहीं सुनी और उसको गंभीर धाराओं में गिरफ्तार कर लिया गया .  

Share This Post