Breaking News:

इतना बदलाव कि शिवपाल यादव भी योगी की तारीफ कर के धर्मग्रन्थ “गीता” पढने की सलाह दे रहे .

समय के साथ बहुत कुछ बदलते देखा होगा आप ने . कभी मौसम , कभी रिश्ते पर अचानक ही अगर वर्षों से जिसे साम्प्रदायिक आदि शब्दों से नवाज रहा हो , वही अचानक ही उसका भक्त हो जाए तो इसे साधारण नहीं बल्कि बड़ा बदलाव कहा जाएगा और वही बदलाव उत्तर प्रदेश में कभी समाजवादी में नंबर दो की हैसियत रखने वाले और हिन्दू शक्तियों के खिलाफ खुल कर खड़े होने वाले शिवपाल यादव में दिख रहा है .

एक बैठक में उन्होंने बताया की जल्द ही वो अपना एक नया मोर्चा खड़ा करेंगे जो वास्तविक विपक्ष का कार्य करेगा . योगी आदित्यनाथ की तारीफ़ करते हुए शिवपाल यादव ने कहा की योगी आदित्यनथ जी एक मजबूत विचारों वाले व्यक्तित्व हैं . अपने भाई रामगोपाल के अपने प्रति बयानों पर पलटवार करते हुए शिवपाल यादव ने कहा कि उन्हें पार्टी के संविधान बनाने से पहले पवित्र ग्रंथ ‘गीता” पढ़नी चाहिए . 

गीता और भगवाधारी योगी के लिए इस प्रकार के बयान समाजवादी पार्टी के वरिष्ठतम सदस्य के मुँह से बिलकुल नए हैं . इसे एक बड़ा बदलाव माना जाएगा और राजनीति को एक नयी करवट भी कहा जा सकता है . 

Share This Post