झारखंड में बच्चा चुराने के आरोप में भीड़ ने नईम , सज्जू और सिराज को पीट पीट कर मार डाला . पुलिस से भी भिड गए लोग


संतान अर्थात औलाद हर व्यक्ति की ऐसी कमजोरी होती है जिसमे वो पल भर में भावुक , पल भर में उत्तेजित और पल भर में खामोश हो जाता है . स्कूलों पर फूटने वाला अभिभावकों का गुस्सा हो या पडोसी से होने वाला झगड़ा … अक्सर इन सब के पीछे संतान के प्रति अभिभावकों का प्रेम या उनसे जुडी भावनाएं होगी हैं . बच्चो से जुडी भावनाओ का एक बेहद अजीब रूप झारखंड में जमेशदपुर में दिखने को मिला जहाँ बच्चाचोरी के एक आरोप के बाद १०० से ज्यादा लोगों की भीड़ ने ना सिर्फ ३ लोगों को मार डाला बल्कि उन्हें बचाने के लिए बीच में आये पुलिस प्रशासन से भी तीखी झड़प कर डाली जिसके बाद वहां के हालत तनावपूर्ण हैं …

झारखंड में जामेशद पुर के पास करीब 100 लोगों की भीड़ द्वारा 3 लोगों की बच्चा चुराने के अपराध में पीट पीट कर मार डालने का मामला प्रकाश में आया है , बताया जा रहा है की ये तीनो मुस्लिम समुदाय से आते हैं और पशुओं का व्यापार भी करते हैं ..पुलिस इस मामले की गहन जांच कर के मामले की तह तक जाने का प्रयास कर रही है .

घटना झारखंड के सरायकेला के राजनगर इलाके की है। वृहस्पतिवार को सुबह के करीब चार बजे का समय था जब शेख हालिम, शेख सज्जू, शेख सिराज और शेख नईम दो वाहनों से राजनगर इलाके से हो कर निकल रहे थे ….वो इलाका पहले से ही तमाम बच्चो के गुमशुदा होने के कारण बेहद सतर्क था , वहाँ बच्चो के गायब होने का सिलसिला सा चल निकला था ..हेज़ल गांव के पास कुछ लोगों ने इन सभी की गाड़ियों को रोकने की कोशिश की जिस से वो पूछताछ कर के इत्मीनान कर सकें लेकिन ये सारे भीड़ को देख कर और तेज भागने लगे …

इनके भागने से भीड़ को शक हो गया इनके बच्च्चोर होने का और इसके बाद इन्हे भीड़ ने दौड़ा लिया. पीछे लोगों को आते देख कर इन्होने रुक कर बात करने के बजाय और तेज भागना शुरू कर दिया जिस से लोगों का शक गहराता गया आखिर में लोगों ने गाडी को दौड़ा कर पकड़ लिया और उनसे भागने का कारण पूछने लगे जिसे वो सारे संतोषजनक नहीं बता सके …

इसके बाद वहाँ लोगों ने मारपीट शुरू कर दी जिसकी जद में सबसे पहले नईम आया ..इधर मारपीट शुरू थी उधर हालिम , साज़्ज़ु और सिराज वहां से नईम को छोड़ कर भाग गए और कहीं जा कर छिप गए ..इनके छिपने के बाद गाँव वालों का शक और गहरा गया और इन तीनो की तलाश शुरू कर दी . धीरे धीरे बच्चा चोरों के छिपे होने की खबर चारों वो फ़ैल गयी और इस तलाशी अभियान में लगभग 6 गाँव के लोग शामिल हो गए ..अंत में शोभापुर के पास गांववालों ने सिराज और सज़्ज़ु को पकड़ लिया और फिर इतना पीटा की उन्होंने वही प्राण त्याग दिए …..

इस घटना की शिकायत पुलिस में की गयी थी . मौके पर पहुंची पुलिस ने उत्तेजित गाँव वालों को समझाना शुरू किया पर गाँव वाले बच्चा ना बरमाद कर पाने से पहले से ही खफा थे इसलिए वो पुलिस से भी भिड़ गए जिसके बाद पुलिस को पीछे हटना पड़ा . नईम काफी देर तक घायल पड़ा रहा जिसका इलाज़ पुलिस ने सरायकेला के सबडिविजनल अस्पताल में करवाने के उद्देश्य से ले गए पर वहाँ डाक्टरों ने उसको मृत घोषित कर दिया …


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...