Breaking News:

अरमान से ठुकराई गयी अफ़साना बन गयी शंभू की दुल्हन .. पुलिस , कोर्ट और जनता ने कहा – सौभाग्यवती भव

अफसाना को को जब अरमान ने 3 तलाक दे कर बेसहारा किया था उसके बाद उसी अरमान ने उसको धक्के दे कर बाहर निकाला था तब शायद अरमान ने सोचा भी नहीं होगा कि अफसाना को कोई ऐसा सहारा मिल जाएगा जो उस से 7 जन्मों का रिश्ता बनाएगा और उसकी सूनी जिंदगी फिर से आबाद कर देगा …

मामला है बिहार के पश्चिम चंपारण जिले का . यहां गोवर्धना थाना क्षेत्र के बलुहवागांव की रहने वाली अफसाना का निकाह चंपारण के ही अरमान से कुछ वर्ष पहले हुई थी .. शादी के बाद से ही अरमान आये दिन अफसाना को मारने पीटने लगा , शराब के नशे में वो अमानवीयता की सारी हदें तोड़ता गया और अफसाना चुप चाप अपना नसीब मान कर उसे सहती गयी ..

एक दिन अचानक अरमान पर फिर शराब का नशा सवार हुआ और अफसाना को बेरहमी से पीटने के बाद उसे धक्के मार कर घर से बाहर निकाल दिया .. अफसाना रोते हुए अपने मायके गयी और वहां अपनी पहाड़ जैसी जिंदगी अकेले ही काटने लगी …

अचानक ही किसी दिन एक वैवाहिक कार्यक्रम में अफसाना की मुलाकात चंपारण के ही शम्भू से हुई .. दोनो में प्यार का अंकुर फूटा और फिर दोनों एक दूसरे के करीब आने लगे .. शम्भू ने अफसाना को हर सुख दुख में साथ निभाने का वचन दिया तो अफसाना ने आगे बढ़ कर शम्भू को अपना स्वामी मान लिया .. शम्भू के परिचितों ने शम्भू का पूरा साथ दिया और एक मंदिर में दोनों प्रेमियों की शादी पूरे वैदिक रीति रिवाज़ से करवा दी और अफ़साना और शम्भू सदा सदा के लिए एक दूसरे के हो गए ..

जब अफ़साना के घर वालो को पता चला तो उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया .. अकेली पड़ी जिंदगी काट रही अपनी ही बेटी की दुर्दशा पर चुप बैठा अफ़साना का परिवार अचानक ही शम्भू पर टूट पड़ा और शम्भू को धमकियां देने लगा पर शम्भू ने अपने कदम इंचमात्र भी पीछे नहीं खींचे ..

इस घटना का सबसे दिलचस्प पहलू तब आया जब कभी अफ़साना को 3 तलाक दे कर ठुकराने वाला अरमान अचानक ही इसमें कूद पड़ा और हंगामा शुरू कर दिया पर किसी की भी शम्भू के आगे एक न चली .. आखिर में अफ़साना के घर वालों ने अरमान के घर वालों के साथ मिल कर शम्भू के ख़िलाफ़ अपनी बेटी के अपहरण की रिपोर्ट दर्ज करवा दी साथ ही साजिश रचते हुए शम्भू पर झूठा आरोप लगाया कि उसने उनकी बेटी का जबरदस्ती घर वापसी करवा दिया ..

पुलिस ने मामले की जांच की तो मामला प्रेम विवाह का पता चला और अफ़साना ने पुलिस के आगे शम्भू को अपना पति माना तो पुलिस ने कार्यवाही रोक दी .. अफ़साना के घर वाले फिर अदालत गए जहां अफ़साना ने जज के आगे अदालत में भी पुलिस के आगे कही बात दोहराई और शम्भू के बिना ना रहने की शपथ लेते हुये खुद से हिंदुत्व में वापस आने की बात स्वीकारी और अदालत को बताया कि वो बहुत सुखी है शम्भू के साथ जिसमे उसके व अरमान के घर वाले बिना वजह अड़ंगा डाल रहे हैं ..

अदालत ने अफ़साना की बात सुन कर सख्त तेवर दिखाते हुए अफ़साना की जिंदगी में किसी भी तरह का कोई भी व्यवधान आगे से ना डालने की हिदायत अफ़साना के घर वालों को दी और पति शंभू के साथ पत्नी अफ़साना को अपनी जिंदगी खुद से जीने के लिए स्वतंत्र कर दिया …

पूरे इलाके में चर्चा है कि प्यार हो तो लैला मजनू नहीं बल्कि ” अफ़साना और शम्भू ” जैसा …

Share This Post