किस ने मारा असम के लफिकुल इस्लाम को अब ये जांच करेगी CBI . जानिये कौन था वो ?


जिस हत्याकांड के बाद अचानक ही मची थी खलबली और सनसनी उसी में अब अचानक ही आया है नया मोड़ . इस हत्याकांड में उठ रही आवाजों को खामोश करने के लिए मोदी सरकार ने अब इस बेहद चर्चित काण्ड अर्थात ऑल बोडो माइनोरिटी स्टूडेंट्स यूनियन(एबीएमएसयू) के चीफ लफिकुल इस्लाम की हत्या के मामले की जांच सीबीआई को सौंपने का फैसला किया है . ये कदम असम सरकार की मांग पर उठाया गया है .

ज्ञात हो कि 1 अगस्त को कोकराझार के तितागुरी मार्केट में अज्ञात बंदूकधारियों ने लफिकुल इस्लाम की हत्या कर दी थी। लाफिकुल इस्लाम के परिजन विगत  दो महीने से स्थानीय पुलिस पर भरोसा न होने के कारण इस मामले में सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे। इतना ही नहीं लाफिकुल इस्लाम के परिजन उनकी पत्नी और बहन असम में हो रहे लगातार कोकराझार और बक्सा जिलों में विरोध प्रदर्शनों का नेतृत्व भी किया था .. इन प्रदर्शनों में दोनों जिलों में ट्रेनों को रोकने की कोशिश की गयी थी .

 

प्रसाशनिक अधिकारियों के अनुसार इसी ट्रेन रोकने के मामले में ही इनकी सबसे ज्यादा झडप हुई , भीषण नारेबाजी शासन और प्रशासन के खिलाफ की गयी . हालत सबसे ज्यादा उन जिलों में बुरे थे जिसमे बंगलादेशी मुस्लिमों की संख्या ज्यादा थी . कोकराझार जिले में तो प्रदर्शनकारी ५ बजे से ही सडको पर उतर आये .. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि जब प्रदर्शनकारियों ने आगे बढऩे की कोशिश के दौरान अधिकारियों पर पथराव किया तो पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े। प्रदर्शनकारियों को खदेडऩे के लिए पुलिस ने रबर की गोलियां चलाई। लाठीचार्ज में कुछ प्रदर्शनकारी घायल हो गए जबकि कुछ उस वक्त चोटिल हुए जब वे भाग रहे थे। पुलिस अधिकारी ने कहा कि चार सुरक्षा कर्मी भी घायल हुए हैं। इस मामले में प्रदर्शनकारी कोकराझार के एसपी को निलंबित करने की मांग कर रहे थे। 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share