#कश्मीर के अंदाज में अब #छत्तीसगढ़ में लगे पोस्टर… अपने बच्चों को हमें सौंप दो वरना मारा जाएगा पूरा परिवार


जिस तरह 1990 में कश्मीर में आतंकियों ने हिन्दुओं के घरों पर पोस्टर लगाये थे कि कश्मीर छोड़ दो वरना मारे जाओगे, अब उसी तर्ज पर एक और राज्य छत्तीसगढ़ में आतंकियों ने पोस्टर चस्पा किये है.  छत्तीसगढ में इन आतंकियों ने एक हैरान कर देने वाला फरमान जारी किया है. अनाज, पैसा और धन लूटने के बाद कुंकुरी शहर के कुछ घरों पर आतंकियों ने एक पर्चा चस्पा किया है. जिसमें फरमान लिखा है कि अपने बच्चे हमारे हवाले कर दो. ऐसा नहीं करने पर आतंकियों ने पूरा गांव ध्वस्त करने की धमकी दी है.

वहां की पुलिस के अनुसार, शुक्रवार की शाम गांव के लोगों ने सूचना दी कि घर के बाहर आतंकी ने पर्ची लगाई है. जिस पर अपने बच्चों को उन्हें सौपने की धमकी लिखी गयी है. मौके पर पहुंचने पर पाया गया कि आतंकियों ने दो गांव के दो अगल-अलग मकानों पर पर्ची चिपकाई थी. जिसपर धमकी भरे लहजे में लिखा है कि आतंकवाद को मजबूती देने के लिए सभी परिवार अपने अपने बच्चों को हमें सौंप दें. अगर गांव वालों ने ऐसा नहीं किया पूरा गांव ध्वस्त कर दिया जाएगा. कुंकुरी के एसडीपीओ ने मीडिया से बताया कि दो घरों पर आतंकियों के फरमान की पर्ची की हम गंभीरता से जांच कर रहे हैं. धमकी के बाद क्षेत्र में पुलिस की गश्त और बढ़ा दी गई है तथा धमकी भरे खत को घरों से हटा दिया गया है.

इसके अलावा दूसरी ओर छत्तीसगढ़ में १४ अप्रैल से गांवों में शुरू होने वाले ग्रामसभाओं में माओवादी हमले का खतरा मंडराने लगा है. राज्य पुलिस के खुफिया विभाग ने ग्रामसभा की बैठक के दौरान माओवादी हमले की आशंका जताई है. पंचायत पदाधिकारियों और ग्रामीणों का अपहरण कर उनकी हत्या करने के संकेत भी मिले है. आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि माओवादियों से निपटने के लिए विभाग ने रणनीति भी बनानी शुरू कर दी है. साथ ही सभी रेंज के पुलिस महानिरीक्षकों को सतर्क रहने के लिए कहा गया है. ग्रामसभा के दौरान संबंधित क्षेत्र की पुलिस और स्थानीय फोर्स को गांव में तैनात करने तथा उसकी निगरानी रखने की हिदायत दी गई है. ज्ञात हो कि प्रदेश की 10971 ग्राम पंचायतों के २० हजार से अधिक गांव में ग्रामसभा का आयोजन किया जाना है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share