UP पुलिस व्यस्त है मृत हिंदूवादी रामबाबू गुप्ता के परिवार के दमन में… उधर अतीक ने दी इंसानी बोटियां काट कर बिरयानी बनाने की धमकी

इस बात को ज्यादा समय नहीं हुआ है जब उत्तर प्रदेश की पिछली सरकार में प्रखर हिंदूवादी नेता रामबाबू गुप्ता को झुकाने के लिए टांडा अंबेडकर नगर विधायक अजीमुल हक ने तमाम प्रयास किये थे. लेकिन जब  रामबाबू गुप्ता ने झुकने से इनकार कर दिया तब रामबाबू गुप्ता की बेरहमी से ह्त्या कर दी गई थी. रामबाबू गुप्ता के बेरहम क़त्ल पर शासन से लेकर प्रशासन तक ने चुप्पी  साध ली थी क्योंकि अजीमुल हक सत्ताधारी पार्टी का ही विधायक था. लेकिन समय बदला, सरकार बदली तथा आज रामबाबू गुप्ता की विधवा पत्नी संजू देवी भारतीय जनता पार्टी की विधायक हैं. लेकिन इसके बाद भी उनके लिए अम्बेडकरनगर की पुलिस वैसे ही है जैसे पहले थी . आज भी उन के ऊपर दमन चक्र चल रहा है जबकि वो परिवार सदा से योगी आदित्यनाथ का खुला समर्थक रहा है . ये एक वर्ग द्वारा व्यापारियों के दमन की घटना है जो इतिहास ही नहीं , वर्तमान भी है .

आज भी उत्तर प्रदेश पुलिस मृत हिंदूवादी नेता रामबाबू गुप्ता के परिवार के दमन में व्यस्त है तो उधर जेल में बंद उन्मादी गुंडे अतीक अहमद ने कारोबारी मोहित जायसवाल की बोटियां काटकर बिरयानी बनाने की धमकी दी है. अतीक अहमद की धमकी योगी आदित्यनाथ जी की उस सत्ता को सीधी चुनौती है जो कहते हैं कि आज उत्तर प्रदेश में अपराधी थर थर कांपते हैं. एकतरफ जेल में बंद माफिया अतीक अहमद खुलेआम योगी की सत्ता तथा योगी की पुलिस को ठेंगा दिखाते हुए इंसानी बोटियां काटकर बिरयानी बनाने की धमकी देता है तो वहीं दूसरी तरफ अंबेडकर नगर पुलिस उस मृत रामबाबू गुप्ता के परिवार पर दमन चक्र चला रही है, जिसकी पत्नी भारतीय जनता पार्टी की ही विधायक है.

बता दें कि हाल ही में कारोबारी मोहित जायसवाल ने पुलिस में मामला दर्ज कराया था कि अतीक अहमद तथा उसके गुर्गों ने जेल में उसके साथ मारपीट की थी तथा जबरन 45 करोड़ रूपये की संपत्ति अपने नाम करा ली. मोहित जायसवाल की शिकायत के बाद माफिया अतीक अहमद के दो गुर्गों की गिरफ्तारी और बेटे व साथियों की तलाश में ताबड़तोड़ दबिश दी जा रही हैं लेकिन इसके बाद भी मोहित जायसवाल दहशत में है. अतीक और उसके गुर्गों द्वारा जेल में दी गई यातनाओं की जानकारी देते हुए मोहित ने कहा कि दस्तावेज पर दस्तखत कराने के साथ अतीक ने धमकी दी थी कि जेल में न होता तो बोटियां काटकर बिरयानी बनवा लेता.

मोहित का कहना है कि 26 दिसंबर की सुबह ऑफिस में मौजूद गुर्गों ने उसे देवरिया जेल जाकर अतीक अहमद से मुलाकात की धमकी दी. मोहित के साथ दोनों गुर्गे एसयूवी में सवार हो गए. उनके इशारे पर मोहित खुद गाड़ी चलाकर देवरिया जेल के गेट पर पहुंचा. अतीक का बेटा उमर अपने गुर्गों के साथ पहले से वहां मौजूद था. सभी लोग मोहित को जेल के भीतर ले गए. वहां अतीक ने उसे बेतहाशा पीटा.  दोनों गुर्गे कंपनी के लेटरहेड व अन्य दस्तावेज साथ ले गए थे. मोहित ने बताया कि जबरन उसके साइन करा लिए गये तथा अतीक ने कहा कि अगर वह जेल में न होता तो तेरी बोटियां काटकर बिरयानी बनवा लेता. अपर पुलिस अधीक्षक नगर पूर्वी सर्वेश कुमार मिश्रा ने बताया कि मोहित जायसवाल और उसके परिवार को सुरक्षा मुहैया कराई गई है. उसके घर पर भी सशस्त्र पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है.

Share This Post