चुनाव आयोग ने पार्टियों को दिया चैलेंज, कहा- दो दिन का दिया समय, हैक करके दिखाओ हमारी ईवीएम

नई दिल्ली : विपक्षी दलों द्वारा ईवीएम पर उठाए जा रहे सवालों को लेकर चुनाव आयोग ने आज एक सर्वदलीय बैठक बुलाई, जिसमें सात राष्ट्रीय तथा 4 क्षेत्रीय पार्टियों के प्रतिनिधि शामिल हुए। बैठक के दौरान मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने कहा कि ईवीएम मशीन के साथ छेड़छाड़ करना मुमकिन नहीं है। बैठक में चुनाव आयोग ने सभी राजनीतिक पार्टियों को चुनौती दी है कि वो ईवीएम को हैक करके दिखाएं।

इसके साथ ही आयोग ने पार्टियों ने रविवार और सोमवार तक का समय दिया है। बैठक में चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने ईवीएम में छेड़छाड़ के अलावा वेरिफाइएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) के प्रस्तावित इस्तेमाल के बारे में बात की और साथ ही आईआईटी के बुलाए गए आईटी विशेषज्ञों ने प्रतिनिधियों को ईवीएम में इस्तेमाल होने वाले सुरक्षा मानकों के बारे में बताया।

चुनाव आयोग का कहना है कि वीवीपैट के लिए सरकार से धन प्राप्त हो गया है और इसे 2019 तक कार्यान्वित कर दिया जाएगा। वीवीपेट से होगा यह कि वोट डालने पर ईवीएम मशीन से आपके वोट की रसीद निकलेगी, जो सात सेकेंड में मशीन से निकलकर नीचे बक्से में चली जाएगी। इसके माध्यम से आप अपनी आंखों से देख सकेंगे कि आपका वोट सही चुनाव चिन्ह को पड़ा है या नहीं।

इस सर्वदलीय बैठक में बीजेपी से भूपेंद्र यादव, जेडीयू से केसी त्यागी, आम आदमी पार्टी से मनीष सिसोदिया और सौरभ भारद्वाज, एनसीपी से डीपी त्रिपाठी और बीएसपी से सतीश चंद्र मिश्र शामिल हुए। लेकिन बैठक में विपक्ष बंटा हुआ नजर आया। बता दें कि कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी और आम आदमी पार्टी समेत करीब 16 विपक्षी पार्टियों की ओर से ईवीएम से छेड़छाड़ की आशंका जताए जाने के बाद चुनाव आयोग ने यह बैठक बुलाई थी।

Share This Post