मध्य प्रदेश के जबलपुर में भारी धर्मांतरण की आहट.. हिन्दू संगठन सड़कों पर


सिर्फ भारत में ही नहीं पूरे विश्व में धर्म परिवर्तन का मुद्दा गरमाता जा रहा है….एक और जहां धर्म की राजनीति करने वाले लोग, भोले भाले लोगों को बहकाकर जबरन धर्म परिवर्तन करवा रहे है…वहीं दूसरी और हिन्दुस्थान में हर दिन कहीं ना कहीं इसी तरह की चीजें हो रही है….ऐसा ही एक वाक्या जबलपुर में देखने को मिल रहा है… जहां चर्च ऑफ नार्थ इंडिया ने जबलपुर में तीन दिवसीय क्रिस्टियन प्रेयर फेस्टिवल का आयोजन कर रहा है… लेकिन इस आयोजन को लेकर वहां के हिन्दू संगठनों का कहना है कि भोले -भाले हिन्दुओं को मदद के बहाने उसका धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है….न सिर्फ हिन्दू समाज संगठनों को बल्कि समाज चिंतको को भी इस तरह की घटना ने सोचने पर मजबूर कर दिया है….

कहते है कि जो इंसान मानवता की भलाई करता है उसे कभी ना कभी ऊपर वाले का दर्जा मिल जाता है…ओर जब उसे ऊपरवाले का दर्जा मिल जाता है..तो फिर वो अपना असली चेहरा दिखाता है….ओर वो चेहरा ना तो ऊपरवाले का होता है ओर ना ही उस इंसान का… असल में वो चेहरा उस इंसान के तरह होता जो लोगों के सामने अपने आप को ऊपरवाले का दूत बताता है… लेकिन असलियत कुछ ओर ही होता है…. उन्हीं में से एक चेहरा है डॉ पॉल दिनकरन का…… जिस पर आरोप है कि वो गरीब तबके के हिन्दुओं को बहला-फुसलाकर उसका धर्म परिवर्तन करवाता है….चलिए पहले हम आपको डॉ दिनकरन का वो क्लिप सुनवाते है…जिसे आपका सुनना बेहद जरूरी है….फिर हम आपको उस फेस्टिवल के आयोजन के भी बारे में बताएंगे और इसे आयोजित करने की पीछे मकसद क्या है….उस मकसद को भी बताएंगे…
अंतरराष्ट्रीय वक्ता और येशु के सन्देश को सारी दुनिया में प्रसारित करने वाला ये ख्याति प्राप्त सख्स…धर्म की आड़ में धर्म परिवर्तन के घिनौने जैसे गंदे खेल को अंजाम देने का आरोप है……डॉ. पॉल अब तक लाखों सभाओं को संबोधित कर चुके हैं और बड़े ही चमत्कारिक ढंग से लोगो की पीड़ा दर्द को कैमरे के सामने दूर करने की बात करते है…..इनके कॉन्सर्ट में आप अक्सर पाएंगे कि कोई दरिद्र या ग्रामीण रोते हुए मंच पर आता है…तो उनसे कहता है कि मैने जब से प्रभु येशु का ध्यान किया तभी से परमपिता की मुझपर कृपा हुई और मेरा रोग ठीक हो गया….इन कॉन्सर्ट में पानी की तरह पैसा बहाया जाता है लाजबाब लाइट इफैक्ट और साउंड सिस्टम के जरिये एक ऐसा साइक्लोजिकल एटमॉस्फियर बनाया जाता है जिससे अनायास ही लोग इनकी बातों में फंस जाते है….मनोचिकित्सकों की माने तो ये सब एक मायाजाल है जिसमे आप के अवचेतन मन में इस प्रकार की धारणा डाली जाती है कि आप न चाह के भी भ्रमित हो जाते है…..   
हम आपको डॉ पाल के ट्रस्ट को मिलने वाली उस विदेशी फंडिंग आंकड़े से भी रूबरू करवाते है जो कि अपने आप में एक चौंकाने वाला है…. 
विदेशी फंडिंग …धर्मान्तरण की साजिश
विलिवर्स चर्च और उससे जुड़े एनजीओ को 2016 के दौरान 1348 .65 करोड़ रुपये की विदेशी सहायता मिली थी .
इनमे अकेले अयाना चैरिटेबल ट्रस्ट को 826 . 27 करोड़ का विदेशी फंड मिला था .
वहीं विलिवर्स चर्च को 342 . 62 करोड़ रुपये मिले
लव इंडिया मिनिस्ट्रीज को 76 . 23 करोड़ रुपये मिले
और लास्ट आवर्स मिनिस्ट्री को 103 . 51 करोड़ रुपये का विदेशी फंड मिला था
यही नहीं , इस चर्च और उससे जुड़े एनजीओ ने देश के भीतर भी काफी धन जुटाया था .
गृह मंत्रालय के अनुसार 2016 में इनका कुल राजस्व लगभग 2400 करोड़ रुपये का था
तो देखा आपने कि किस तरह से विदेशों से फंडिंग की जाती है….और उस फंडिंग का इस्तेमाल उन गरीब तबके के लोगों के बीच किया जाता है….जो दो वक्त की रोटी जुटाने के लिए कड़ी मेहनत करते है…. ओर जिसे रुपए का प्रलोभन देकर …धर्मपरिवर्तन का गंदा खेल खेलते है…..धर्म परिवर्तन का मामला हमेशा से ही देश को एक ऐसे युग की ओर ढ़केलता है…जिसे हम अंधयुग कहे तो गलत नहीं होगा….पढ़े-लिखे शिक्षित लोग कहे या फिर एक विशेष धर्म की बात करें ….कहीं ना कहीं इन सब के बीच वो लोग फंसे नजर आते है जो असहाय है….या फिर वो असहाय हिन्दू जिसे दूसरे धर्म के लोग बरगलाने की कोशिश करते है…..
विश्व हिन्दू महासभा के जिला प्रभारी  कह रहे है इस तरह के आयोजन से किसी भी तरीके से किसी का भला नहीं होने वाला है…महज ये एक जाल है..जिसके जरिए गरीब हिन्दू आदिवासियों को एक अच्छी जिदंगी का लालच देकर उनका धर्म परिवर्तन कराना है…हालांकि जो इस फेस्टिवल का आयोजन कर रहे है..उस पर ये भी आरोप है कि … उन्हें विदेशों से फंडिंग भी की जाती है…. ओर ये विदेश से किए गए फंडिंग का गलत इस्तेमाल कर भोले-भाले लोगों को बहला-फुसलाकर रुपए की लालच देकर धर्म परिवर्तन करवाते है……  हालांकि ये पहला मामला नहीं है..जिसमे भोले-भाले हिन्दुओं को एक साजिश के तहत धर्म परिवर्तन कराया जा रहा हो….
हालांकि देश के अंदर धर्म परिवर्तन के आंकड़ों में काफी इजाफा हुआ है….एक ओर जहां दूसरे धर्म के लोग हिन्दू समाज के गरीब तबकों को लगातार धर्म की आड़ में फांसकर धर्म परिवर्तन करा रहे है…वहीं दूसरी ओर ऐसे लोगों का शोषण भी कर रहे है…हालांकि ये मामला यहीं नहीं रूका ओर विश्व हिन्दु महासभा के जिला प्रभारी ने इस मामले की जानकारी जबलपुर के एसपी को भी सौंपी ओर पूरे मामले की संज्ञान लेने को भी कहा…  हिन्दू संगठन की ओर से सौंपे गए ज्ञापन पर एसपी बताने की कोशिश कर रहे है कि अगर फेस्टिवल की आड़ में गांव के लोगों को बहलाकर धर्म परिवर्तन की साजिश रची जा रही है तो उसके के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा…. 
हालांकि हिन्दू संगठन ने इस मामले की संज्ञान जिला कलेक्ट्रर को भी सौंपी . डीएम ने इस मामले को गंभीर बताते हुए हर वो फौरी एक्शन लेने की बात कर रहे है..जो संभव है….उन्होंने ये भी कहा है कि कहीं ना कहीं अगर ये मामला धर्म परिवर्तन से जुड़ा हुआ है….तो वो किसी किमत पर इसे होने नहीं देंगे…ओर जो मानवता के नाम पर धर्मपरिवर्तन का नंगा नाच खेलते है…उनके खिलाफ सख्त से सख्त एक्शन लिया जाएगा….  किस तरह से मानवाता के भलाई के नाम पर गरीब हिन्दुओं का धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है…. ईसाई धर्म को चलाने वाले लोग किस तरह से भोले-भाले लोगों को अपना शिकार बनाते है……ओर किस तरह से उसे अपने बातों में लेकर धर्मपरिवर्तन करवाते है…. ये अब धीरे धीरे जग जाहिर हो रहा है और समाज में जागरूकता भी फ़ैल रही इस जहर के खिलाफ . 
हालांकि इस खेल का अंत कब होगा शायद इस सवाल का जवाब आने वक्त में मिल जाएगा..फिलहाल सुदर्शन न्यूज जो सवाल उठा रहा है…उस पर भी नजर डाल लेते है…… कुल मिलाकर कहे तो यही है कि जो व्यक्ति अपने समाज और धर्म का नहीं हुआ, इसकी कोई गारंटी नहीं है कि उसकी सोच और नियत बदल जाएगी….हालांकि हमारा कानून इसकी पूरी इजाजत देता है कि आप जब चाहें, जैसे चाहें अपना धर्म बदलें, नाम बदलें, अपनी मर्जी से अपने हिसाब से अपना जीवन व्यतीत करें…. लेकिन जबरन धर्मपरिवर्तन कराना कहीं ना कहीं एक क्राइम है…जिस पर एक सख्त कानून बनाने की जरूरत है….लेकिन सबसे ज्यादा जरूरत है हमें अपनी सोच को बदलने की…. क्योंकि किसी भी धर्म के ग्रंथों को उलट कर नजर मार लें, कोई भी धर्म हमें किसी से बैर रखना, किसी को नुकसान पहुंचाना या किसी भी प्रकार का हिंसा करना नहीं सिखाता है… 

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share