पुलिस को सीएम योगी आदित्यनाथ का आदेश.. “लिस्ट बनाओ उनकी, जो कांवड़ यात्रा में डालते हैं बाधा”

पवित्र श्रावण मास में कांवड़ यात्रा में किसी तरह की कोई परेशानी न हो, इसके लिए यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सक्रिय हो गये हैं. त्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को निर्देश दिए कि कांवड़ यात्रा की व्यवस्था के बारे में सभी अधिकारी प्रयागराज कुम्भ-2019 से सीख लें कि कि अगर कुम्भ जैसा बड़ा आयोजन इतनी सफलता से हो सकता है, तो कांवड़ यात्रा को भी बेहतर ढंग से सम्पन्न कराया जा सकता है. कांवड़ यात्रा के बाद से ही छठ तक त्यौहारों का एक लम्बा सिलसिला चलने वाला है.

बजट का पहला साइड इफ़ेक्ट देखने को मिला..पेट्रोल और डीजल हुआ महंगा

लोक भवन में सावन मास में शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा के सम्बन्ध में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिलों और मंडलों के पुलिस तथा प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों से बात करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कि इस दौरान कुछ लोग माहौल बिगाड़ने की साजिश लगातार रच रहे हैं, इनकी मंशा को कतई कामयाब नहीं होने देना है. जो लोग कांवड़ यात्रा में बाधा डालते हैं,  अराजकता फैलाने की कोशिश करते हैं, उनको चिन्हित किया तथा उनके खिलाफ एक्शन लिया जाए.

अब जौनपुर में 12 साल की बच्ची का बलात्कार.. परवेज गिरफ्तार, साहिल फरार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कांवड़ यात्रा के दौरान कांवड़ियों की सुरक्षा की निगरानी हेलीकॉप्टर से करने के साथ ही, उन पर पुष्प वर्षा भी की जाए. सभी डीएम प्रमुख शिवालयों की साफ-सफाई के साथ जरूरत के अनुसार वहां बिजली, पानी, सुरक्षा खासकर महिलाओं की और अन्य बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था जांच लें. शिवालयों के पास मांस-मदिरा की दुकान नहीं होनी चाहिए। प्लास्टिक, थर्माकोल का प्रयोग नहीं होना चाहिए. मौके पर डस्टबिन रखवाया जाए.

अब संसद तक पहुँची देवबंद की सीमा.. सांसद से किया सवाल- “बताओ, हिन्दू हो या मुसलमान ?”

इसके साथ ही सीएम योगी ने कहा कि कि कांवड़ यात्रा में पहले की तरह डीजे और माइक पर कोई प्रतिबन्ध नहीं रहेगा. हालाँकि स्थानीय अधिकारी यह सुनिश्चित कराएंगे कि इनसे सिर्फ भजन ही बजाए जाएँ. सीएम ने आगे कहा कि कांवड़ यात्रा के दौरान बकरीद पड़ने के कारण इसकी संवेदनशीलता बढ़ जाती है. लिहाजा यह सुनिश्चित करवाएं कि कहीं पर अलग से कोई परंपरा न शुरू हो. प्रतिबंधित श्रेणी का कोई जानवर नहीं कटने पाए. सार्वजनिक क्षेत्रों पर भी जानवर नहीं काटे जाएंगे. संवेदनशील जगहों पर सीसीटीवी कैमरा लगवाएं, जर्जर तार और पोलों को ठीक कर लें ताकि किसी भी दुर्घटना की संभावना न रहे.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post