झांसी में अपने पुलिस बल के साथ खड़े होकर योगी आदित्यनाथ ने शुरू की एक नई पहल.. पहले वर्दी को बना दिया जाता था बलि का बकरा


झांसी पुलिस से मुठभेड़ में मारे गये खनन माफिया पुष्पेन्द्र यादव की मौत के बाद कथित मानवाधिकारियों व राजनेताओं के निशाने पर आई झांसी पुलिस को सीएम योगी आदित्यनाथ का साथ मिला है. सीएम योगी आदित्यनाथ एनकाउंटर में पुष्पेन्द्र की मौत के बाद लगातार राजनैतिक हमले झेल रही झांसी पुलिस के समर्थन में खुलकर सामने आ गये हैं. सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि पुष्पेन्द्र अपराधी था, जिसकी पुलिस के साथ दो बार मुठभेड़ हुई. इस दौरान पुष्पेन्द्र ने पुलिस पर गोलियां चलाएँ तथा इसी दौरान वह मारा गया.

सीएम योगी का साथ मिलने के बाद न सिर्फ झांसी पुलिस बल्कि पूरी यूपी पुलिस ने राहत की सांस ली है क्योंकि इस मामले में लगातार पुलिस को निशाना बनाया जा रहा था, पुलिस को खलनायक की तरह पेश किया जा रहा था. खैर ये तो हमारे यहाँ की रीति रही है कि जब भी हम पर कोई संकट आता है तो हम सबसे पहले पुलिस को ही याद करते हैं तथा इसके बाद भी पुलिस बल को विलेन की तरह पेश किया जाता है. पुलिस की छबि के बारे में हाल ही में गृहमंत्री अमित शाह ने भी कहा था कि फिल्मों तथा साहित्यों ने पुलिस की छबि को खराब किया है. गृहमंत्री शाह ने कहा था कि वह पुलिस के जवानों के हित में कदम उठाएंगे.

अब जब जातिगत राजनीति के सिरमौर नेता तथा कथित मानवाधिकारी पुष्पेन्द्र यादव मामले को लेकर झांसी पुलिस को कटघरे में खड़ा कर रहे थे, ऐसे में सीएम योगी अपनी पुलिस के समर्थन में आ गये हैं. सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पुष्पेंद्र यादव की पुलिस से दो बार अलग-अलग मुठभेड़ हुई थी, जिसमें वह मारा गया. उन्होंने समाजवादी पार्टी प्रमुख तथा उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि अपराधियों पर कार्रवाई होने से उन्हें बुरा लग रहा है.

एक टीवी चैनल से बातचीत में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, “पहले दरोगा को गोली मारी गई. फिर दूसरी टीम ने रोकने की कोशिश की तो मुठभेड़ हुई और अपराधी मारा गया. जानबूझकर लोगों को नहीं मारा जा रहा है. मुझे लगता है कि अखिलेश यादव की जो प्रकृति रही है, उन्होंने सत्ता में रहते हुए भी हर माफिया, गुंडा, अपराधी और प्रदेश देश की सुरक्षा के लिए जो भी लोग खतरा बने हुए थे उनके सगे बने हुए थे. आज जब उनके अंदर भय पैदा हुआ तो इनको बुरा लगना स्वाभाविक है.”

सीएम योगी ने कहा कि उन्होंने कहा, “झांसी की घटना पूरी तरह इनकाउंटर की घटना है. गाड़ी के लिए किया गया एनकाउंटर नहीं था. लेकिन पुलिस को जब मैसेज किया की इंस्पेक्टर को गोली मारकर गाड़ी को लूटा गया है तो 40 किलोमीटर दूर पुलिस की दूसरी टीम से उसका सामना हुआ. जिसके साथ हुए मुठभेड़ में अपराधी मारा गया. इसमें जो भी होगा उसमें सख्त कार्रवाई की जाएगी. मुझे लगता है कानून हाथ में लेने की इजाजत किसी को नहीं है. न पुलिस को, न नेता को और न ही अपराधियों को. कानून का राज होगा.”


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...