Breaking News:

सीबीएसई इन्टरमीडिएट की पुस्तकों में हो रहा है महिलाओं पर कमेंट, जानें क्या है ये कमेंट….

नई दिल्ली :
 जी हाँ, दिल्ली में इन्टरमीडिएट में
पढाई जा रही शा
रीरिक
शिक्षा की किताब में  महिलाओं के शरीर के
लिए ऐसी बात लिखी गई है जिसे लेकर सोशल मीडिया पर लोगों में आक्रोश है। आपको बता
दें कि
इन्टरमीडिएट में पढ़ाई जा रही किताब के पाठ फिजियोलाँजी एंड स्पोटस के एक पेज में लिखा है कि
महिलाओं के 36-24-36 आकार को सबसे अच्छा होता है,
हैरान करने वाली बात यह है कि इसमें मिस वर्ल्ड
व मिस यूनिवर्स जैसी प्रतियगिताओं में इस तरह के आकार की मागँ ज्यादा होती है ,,
ऐसी टिप्पणी की गयी है ।



आलोचकों ने पाठयक्रम से इस किताब को
हटाने की मांग की हैं। यह घटना ऐसे समय सामने आयी है जब पाठ्यक्रमों और स्कूलों
में प़़ढाई जा रही। डॉ. वीके शर्मा द्वारा लिखी गई किताब दिल्ली स्थित न्यू
सरस्वती हाउस प्रकाशन की
हेल्थ एंड
फिजिकल एजुकेशन
वाली किताब
सीबीएसई से संबद्ध विभिन्न स्कूलों में प़़ढाई जाती है। हालाकिं, सीबीएसई ने
स्पष्ट किया है कि उसने
अपने स्कूलों में निजी प्रकाशकों नें इस तरह के किसी भी किताब की
अनुशंसा नहीं की है।

वहीं, सोशल मीडिया पर किताब का यह
पेज बहुत तेजी से वायरल हो रहा है। ट्विटर पर विभिन्न यूजर्स ने तस्वीरें शेयर कर
इस पेज का जिक्र करते हुए कहा कि प्रकाशक इस सामग्री को वापस ले और स्कूलों के
पाठ्यक्रम से यह किताब हटाई जाए।
इन सब के बाद सीबीएसई ने एक बयान
में कहा
कि विघालयों से यह उम्मीद की जाती है
कि वह किसी निजी प्रकाशक की किताब का चयन करते समय बेहद सावधानी बरतेंगे और सामग्री
की जांच जरूर करेगें।


जिससे किसी भी वर्ग, समुदाय, लिंग, धार्मिक समूदायों की भावनाओं को
ठेस न पहुँचे। साथ ही स्कूलों को अपने द्वारा चलाई जानें वाली किताबों की
जिम्मेदारी भी लेनी होगी। मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा बता चुके
हैं कि सीबीएसई के पास निजी प्रकाशकों की किताबों की गुणवत्ता मापने की न तो कोई
सामग्री है, साथ ही ऐसी किताबों को लागू करने या उनकी सिफारिश का भी कोई अधिकार नहीं
है। पहले भी सीबीएसई में इस तरह की सामग्री को लेकर विवाद होते रहे है।
देखना होगा सीबीएसई इसके जवाब में कया कहती है ।

 सवाल यह उठता है कि आखिर, सीबीएसई
बच्चों को किस तरह की शिक्षा देना चाहता है
? क्या ऐसी पुस्तके युवाओं के मन में
गलत भावना पैदा नही करेंगी
?

 

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW