Breaking News:

बार-बार सतर्क कर रहा रहा सुदर्शन न्यूज़ उन्मादियों से, लेकिन नहीं जागा बुलंदशहर का प्रशासन

सुदर्शन पहले दिन से ही बुलंदशहर में उन्मादी माहौल को लेकर अगाह कर रहा था कि तब्लीगी इज्तिमा की आड़ में किसी नापाक साजिश को अंजाम दिया जा सकता है क्योंकि तब्लीगी जमात एक समय देश की सुरक्षा एजेंसियों की राडार पर आ चुकी है. लेकिन इसके बाद भी बुलंदशहर प्रशासन नहीं जागा तथा बुलंदशहर में हिंसा भड़क उठी. दर्जनों की संख्या में गोवंशों को काटा गया तथा इसके बाद हुई भिड़त में जहाँ गोली लगने से हिन्दू संगठन के कार्यकर्ता सुमित की मौत हो गई तथा भीड़ की पिटाई से स्याना थाना इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की भी मौत हो गई.

सुदर्शन ने बुलंदशहर में होने वाले मजहबी कार्यक्रम इज्तिमा को गलत नहीं बताया लेकिन ये आशंका जरूर जताई थी कि इस मजहबी आयोजन के पीछे कहीं शक्ति प्रदर्शन दिखाने की साजिश तो नहीं है? क्योंकि इस कार्यक्रम में देशभर से ही नहीं बल्कि दुनिया भर से इस्लामिक समुदाय के लोग शामिल होने के लिए बुलंदशहर आये थे.

सुदर्शन ने इस कार्यक्रम की आड़ में मजहबी उन्मादियों की किसी गुप्त साजिश से सावधान होने के लिए इसलिए भी आगाह किया था क्योंकि इस कार्यक्रम का आयोजन तब्लीगी जमात ने कराया है तथा इससे पहले तब्लीगी जमात से जुड़े कुछ लोगों के संबंध आतंकी संगठनों से भी जुड़ने की खबरें आई थीं तथा सुरक्षा एजेंसियों ने भी तब्लीगी जमात को रडार पर लिया था. काश इस बात को देखते हुए बुलंदशहर प्रशासन पहले से अलर्ट पर रहा होता तो आज बुलंदशहर इस बेहद ही अप्रिय तथा दुखद घटना से बच सकता था.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW