बिजनौर में कपिल के घर पर फरहान का हमला.. महिलाओं का निकलना हुआ था दूभर, कश्मीरी अंदाज़ में पत्थरबाजी

कुछ ऐसे ही दुस्साहसी थे जिन्होंने मुज़फ्फरनगर का विवाद शुरू करवाया था , वहां पर भी महिलओं की इज्जत पर हाथ डालने और उनको आये दिन परेशान करने की बात से विवाद शुरू हुआ था .. लगभग वही रूपरेखा बनी हुई थी बिजनौर में जहाँ पर मजहबी उन्मादियो ने अपने कट्टरपंथ की सभी सीमाओं को पार कर डाला है और साम्प्रदायिक तनाव भड़काने की हर सम्भव कोशिश की है . यहाँ पर उन तथाकथित बुधिजिवियो पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं जो उत्तर प्रदेश पुलिस के मजनुओं को पकड़ने के अभियान पर सवाल खड़े करते रहे और आख़िरकार उस पर अंकुश लगवा ही दिया .

ज्ञात हो कि ये मामला उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले का है . यहाँ के थाना नगीना में पड़ने वाले खुर्रम सराय में गुरुवार देर शाम दो हिन्दू परिवार पर मजहबी उन्मादियो ने धावा बोल दिया . इसी बीच भयानक पत्थरबाजी देखने को मिली ..इस घटना की जड में महिलाओं के साथ आये दिन छेड़छाड़ होना बताया जा रहा है . सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार अब तक पुलिस ने इस मामले में 6 उपद्रवियों को हिरासत में लिया है .

मीडिया रिपोर्ट्स से आ रही खबरों के अनुसार बताया जा रहा है कि मोहल्ले में फरहान नाम का एक उत्पाती और खुद को इलाके का गुंडा बताने वाला व्यक्ति अपने कुछ अपनी सोच वाले साथियों के साथ खड़ा हुआ था, जिसका कपिल पक्ष के लोगों ने विरोध किया है। आती जाती महिलाओं पर छींटाकशी करने के आरोप पर इनके बीच कहासुनी और मारपीट हो गई। लेकिन सबसे बुरी बात ये देखने को मिली कि महिलओं के लिए आफत बन चुके फरहान को उसके बड़े बुजुर्गो द्वारा समझाने या डांटने आदि के बजाय उसके साथ खड़े हो गये और लड़ने ही नहीं बल्कि मरने मारने को तैयार हो गये . देखते ही देखते दोनों पक्षों के लोग वहां एकजुट हो गए और एक दूसरे पर पथराव करने लगे। इससे मोहल्ले में अफरातफरी फैल गई। दो समुदायों के युवकों के बीच संघर्ष होने की सूचना पर सीओ और इंस्पेक्टर नगीना पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए और किसी बड़ी अनहोनी पर उतारू उपद्रवियों को रोका .

Share This Post