Breaking News:

दर्जनों गोवंश की लाशें देखकर उबल पड़ा बुलंदशहर, इंस्पेक्टर की ह्त्या, चरमपंथियों की साजिश कामयाबी की तरफ

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में चल रहे तब्लीगी इज्तिमा को लेकर जो आशंकाएं व्यक्त की जा रही थी, वो सच साबित होती हुई नजर आ रही हैं. आपको बता दें कि एकतरफ बुलंदशहर में तब्लीगी इज्तिमा चल रहा है तो वहीं दूसरी तरफ उन्मादियों द्वारा दर्जनों की संख्या में गोवंश काट डाले गये. सूचना मिलने पर हिन्दू संगठनों के लोग पहुंचे तथा गोकशी के विरोध में प्रदर्शन शुरू कर दिया. प्राप्त हुई जानकारी के अनुसार, इज्तिमा में शामिल लोगों से हिन्दू संगठन के लोगों की भिड़त भी हुई. इसी दौरान भीड़ के हमले में स्याना थाना इसंपेक्टर सुबोध कुमार घायल हो गये, जिनकी बाद में मौत हो गई. वहीं हिन्दू समुदाय के युवक सुमित की भी गोली लगने से मौत हो गई है.

बताया जा रहा है कि थाना कोतवाली क्षेत्र के गांव महाव के जंगल में रविवार की रात अज्ञात लोगों ने करीब 25-30 गोवंश काट डाले. गोवंश काटने की सूचना मिलने पर कई हिन्दू संगठनों सहित अन्य लोगों में आक्रोश फैल गया. गुस्साए लोग घटनास्थल पर पहुंचे और गोवंश के कटे अवशेषों को ट्रैक्टर ट्रॉली में भरकर चिंगरावठी पुलिस चौकी पर पहुंचे, इसी बीच इज्तिमा से लौट रहे लोगों से भी इनकी भिड़त की बात सामने आ रही है. गुस्साई भीड़ ने बुलंदशहर-गढ़ स्टेट हाईवे पर ट्रैक्टर ट्रॉली लगाकर रास्ता जाम कर दिया और पुलिस प्रशासन के खिलाफ जोरदार नारेबाजी शुरू कर दी. सूचना मिलने पर एसडीएम अविनाश कुमार मौर्य और सीओ एसपी शर्मा पहुंचे. लगातार जारी हंगामे में चिंगरावठी निवासी सुमित को गोली लग गई. इसके बाद युवक को अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसकी मौत हो गई. बेकाबू भीड़ ने पुलिस के कई वाहन फूंक दिए. साथ ही चिंगरावठी पुलिस चौकी में आग लगा दी.

भीड़ की पिटाई के कारण स्याना कोतवाल सुबोध कुमार गंभीर रूप से घायल हो गए, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां कुछ देर बाद उनकी मृत्यु हो गई. बवाल की जानकारी स्याना सहित अहार, बुगरासी,, बीबीनगर सहित आसपास के कई थानों का पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गई. मौके पर एसएपी और आला अधिकारी भारी पुलिस फोर्स के साथ मौजूद हैं तथा स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है.  यहाँ सवाल ये खड़ा होता है कि क्या इस विवाद का तब्लीगी इज्तिमा से कुछ संबध है? ऐसा इसलिए क्योंकि जहाँ दावा किया जा रहा है कि तब्लीगी इज्तिमा शांति और अमन के लिए है तब आखिर इतनी बड़ी संख्या में गोवंश क्यों काटे गये? पुलिस हर एंगल  मामले की जांच कर रही है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW