370 हटने के विरोध में जुलूस निकाल रहे थे वामपंथी.. लेकिन पुलिस से पहले जनता पहुंची, फिर दिखा अलग नजारा


मोदी सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाये जाने के बाद देशभर में जश्न मनाया गया. हिन्दू संगठनों से लेकर सामाजिक संगठन तक कश्मीर से धारा 370 हटाये जाने के मोदी सरकार के फैसले की तारीफ की, मोदी सरकार को इस ऐतिहासिक फैसला लेने के लिए धन्यवाद किया. 5 अगस्त 2019 को गृहमंत्री अमित शाह ने जैसे ही राज्यसभा में कश्मीर से 370 हटाये जाने की घोषणा की, ऐसा लगा जैसे सावन के महीने में होली तथा दिवाली भी आ गई हो. लोगों ने पटाखे तथा रंग गुलाल लगाकर इसका जश्न मनाया.

इधर राष्ट्रवादी लोग कश्मीर से 370 हटाये जाने का जश्न मना रहे थे तो वहीं कथित बुद्धिजीवी तथा छद्म सेक्यूलर व् वामपंथी लोग इसके खिलाफ खड़े हो गये. ऐसा ही एक नजारा बिहार की राजधानी पटना में देखने को मिला जहाँ वामपंथी संगठनों के कार्यकर्ता धारा 370 हटाए जाने के विरोध में जुलूस निकाल रहे थे. लेकिन इससे पहले कि पुलिस उन्हें रोकने के लिए पहुँचती, वहां की स्थानीय राष्ट्रवादी जनता पहुँच गई तथा वामपंथियों को रोका. जब वामपंथी नहीं माने तो स्थानीय जनता भड़क उठी तथा मारपीट शुरू हो गई.

लोगों ने “कश्मीर हमारा है” तथा “भारतमाता की जय” के नारे लगाते हुए 370 हटाए जाने का विरोध कर रहे वामपंथी कार्यकर्ताओं को दौड़ा लिया. इस दौरान सुमंत नामक एक वामपंथी का सर फूट गया तो वहीं 2 अन्य भी घायल हो गये. सुमंत कुमार को इलाज के लिए पीएमसीएच ले जाया गया. इस दौरान पुलिस भी पहुँच गई तथा स्थिति को नियंत्रण में लिया. आक्रोशित लोगों का कहना था कि धारा 370 हटाए जाने के बाद कश्मीर पूरी तरह से आजाद हुआ है, इससे हर भारतवासी गौरवान्वित है लेकिन ये लोग 370 हटाए जाने का विरोध मार्च कर रहे हैं, जिसे हम स्वीकार नहीं करने वाले.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share