3 तलाक मिला तो रेशमा बन गई रानी.. हिन्दू जीवन साथी को थमा दिया हाथ और बोल उठी – “जय श्री राम”

रेशमा की जिन्दगी में उस समय भूचाल आ गया तथा उसकी जिन्दगी बर्बाद होने की कगार पर आ गई  जब रेशमा को उसके शौहर ने मामूली बात पर तीन तलाक देकर घर से निकाल दिया. रेशमा ने अपने शौहर को समझाने की तमाम कोशिशें की लेकिन वह बिना हलाला के उसे साथ रखने को तैयार नहीं हुआ. इसके बाद रेशमा ने जो किया वो एक मिशाल बन गया. रेशमा ने इस्लाम त्याग कर रानी नाम रख सनातन को अपना लिया तथा श्रीराम जानकी मंदिर में जयश्रीराम बोलकर हिन्दू रीति रिवाज से शादी कर ली.

मामला उत्तर प्रदेश के पीलीभीत का है. खबर के मुताबिक़, 29 वर्षीय रानी (रेशमा) पीलीभीत के मोहल्ला देशनगर में जय संतरी देवी मंदिर के पास की रहने वाली है. उसके पिता का नाम मो. इस्लाम है. पीलीभीत की रहने वाली 29 साल की रेशमा ने बताया कि उसकी शादी तीन वर्ष पहले मोहम्मद रईस से हुई थी. शादी के बाद से ही उसका शौहर उसे परेशान करने लगा था. रेशमा ने बताया कि पांच अप्रैल को उसके शौहर ने उसे तलाक दे दिया और मारपीट कर घर से निकाल दिया.

रेशमा और उसके मायके वालों ने कई बार सुलह की कोशिश की लेकिन ससुराल वाले तैयार नहीं हुए. ससुराल वालों ने शरीयत कानून के तहत हलाला करने समेत कई शर्तें रख दीं. इसके बाद रेशमा मो. पकड़िया नौगवां में हिंदू संगठन से जुड़े दीपक राठौर के संपर्क में आई. रेशमा की आपबीती सुन दीपक ने उसके सामने शादी का प्रस्ताव रखा तथा जन्म-जन्मान्तरों तक उसका साथ देने का वादा किया. रेशमा ने दीपक का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया तथा उसकी जीवन सगिनी बनने को तैयार हो गई.

इसके बाद बुधवार को बरेली के प्रेमनगर के रामजानकी मंदिर में रेशमा का धर्म परिवर्तन कराकर उसे रानी नाम दिया गया. इसके बाद वैदिक मंत्रोच्चार के साथ यज्ञ की वेदी पर रानी ने दीपक के गले में जयमाला डाल दी तथा प्रभुश्रीराम व जगत जननी माँ सीता को साक्षी मानकर  जयश्रीराम के नारों के बीच अग्नि के सात फेरे लिए तथा दीपक के साथ जन्म-जन्मान्तरों सहबंधन में बंध गई. रेशमा नाम त्याग रानी बनी युवती ने नोटरी शपथ पत्र में स्पष्ट किया कि तीन तलाक दिए जाने के बाद पूर्ण स्वेच्छा से हिंदू धर्म अपनाकर दीपू से विवाह किया है. इस मौके पर हिंदूवादी संगठनों के तमाम कार्यकर्ता मौजूद रहे.

सुदर्शन परिवार रेशमा को रानी नाम रख, पूज्य भगवा ओड़कर सनातन स्वीकार करने के लिए हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं देता है, साथ ही दीपक राठौर को भी हार्दिक बधाई व मंगलकामनाएं देता है, जिन्होंने न सिर्फ रेशमा को सहारा दिया बल्कि उनके जीवन साथी बने.

Share This Post