ईसाईयों पर चल रहे धर्मान्तरण के मुकदमे वापस ले सकती है कांग्रेस सरकार.. नई राह पर मध्यप्रदेश

आखिरकार मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार अपने फार्म में धीरे धीरे आती दिख रही है .. गौशाला को अपने घोषणापत्र में शामिल करने वाली कांग्रेस ने अब सरकार की चाबी पाते ही करनी शुरू कर दी नई नई घोषणाएं ..यहां ध्यान देने योग्य है कि 20 सालों से उड़ीसा की जेल में बंद दारा सिंह का नाम लेने वाला भले ही कोई न हो पर मध्यप्रदेश में वापस हो सकते हैं उन ईसाईयों पर से मुकदमे जिन्हें तत्कालीन सरकार ने आरोपी बनाया था हिंदुओं के धर्मान्तरण का ..यही नही, उत्तर प्रदेश की रायबरेली जेल में बंद सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह का भी नाम लेने वाला कोई नही है जो पिछले 4 वर्षों से नबी अहमद द्वारा की जा रही मॉब लिंचिंग का शिकार बनते हुए आत्मरक्षा करते हुए जेल चला गया था ..

दिनांक 18/01/19 राष्ट्रीय ईसाई महासंघ का एक प्रतिनिधि मंडल फादर आनंद मुटूंगल के नेतृत्व में मध्यप्रदेष शासन के विधि विभाग मंत्री श्री पी.सी. शर्मा से मुलाकात कर मांग की कि भारतीय जनता पार्टी के शासनकाल में ईसाई समाज के लोगों पर धर्मान्तरण के कई झुठे मामले दायर किए है उसे वापस लेने की मांग की है।

फादर आनंद मुटूंगल ने कहा कि मंत्री जी के साथ हुई बातचीत के बाद मंत्री जी ने कहा कि सभी झुठे मुकदमे वापस लिए जाएगें। ईसाई समाज के लोगों को कांग्रेसी समझकर राजनैतिक बदला लेने के लिए भारतीय जनता पार्टी के शासनकाल में ईसाई समाज के लोगों पर झुठे मुकदमे दायर किए है।

राष्ट्रीय ईसाई महासंघ के प्रवक्ता रिचर्ड जेम्स ने कहा कि दिसम्बर 2003 से लेकर 2018 तक हमारे संगठन ने करीब 264 मामलों में ईसाई समाज के लोगों को विभिन्न प्रकार की मदद की है। लेकिन ऐसे और भी मामले है जो संगठन की जानकारी में है लेकिन हमारे पास रिकाॅर्ड नहीं होने के कारण हम यहां प्रस्तुत नहीं कर पाएं इसलिए हम कहते है कि प्रदेषभर में और भी मामले पंजीकृत है।

राष्ट्रीय ईसाई महासंघ के कार्यालय प्रभारी मोहित रात्रे ने कहा कि प्रदेष के सभी ईसाई महासंघ के जिलाध्यक्षों को पत्र लिखकर मंत्री जी के द्वारा दिए गए आष्वासन के आधार पर सभी जिलों के संबंधित अधिकारियों को मामले वापस करवाने की प्रक्रिया पूर्ण करवाने का आग्रह किया है। प्रतिनिधि मण्डल में बिबित बाबू, सोनिया सिंह, नाजी मेड़ा, प्रिंस साल्वे, ब्लसेन, बी.एस पीटर आदि शामिल थे।

Share This Post