आतंकियों की फंडिग से हिंदुस्तान में बनाई गयी थी मस्जिद… NIA के खुलासे से सन्न है देश

समय समय पर न सिर्फ ये आवाजें उठती रहीं हैं बल्कि इसके सबूत भी मिले हैं कि मस्जिद तथा मदरसों की आड़ में आतंक को बढ़ावा दिया जा रहा है. यूं तो कहा जाता है कि मस्जिद तथा मदरसे तालीम के लिए बने हैं, इबादत के लिए बने हैं लेकिन कुछ न कुछ ऐसा हो जाता है कि मस्जिद तथा मदरसे शक के दायरे में आ जाते हैं.  शक इस बात का होता है कि कुछ मदरसों और मस्जिदों के पीछे आतंकी संगठनों का हाथ है. आरोप ये है कि इन्हीं आंतकी संगठनों के आकाओं का टेरर फंडिंग से जुड़ा पैसा मदरसों और मस्जिद के निर्माण में लग रहा है तथा इससे देश को तबाही की आग में धकेला जा रहा है.

क्यों न निकलें वहां से मन्नान जैसे आतंकी जब वहीँ आस पास पढ़ाया जा रहा है आतंकी जाकिर का पाठ

मस्जिद से आतंक को बढ़ावा देने के आरोप उस समय सही साबित हुए जब राष्ट्रीय जांच एजेंसी NIA ने देश में एक ऐसी मस्जिद को पकड़ा है जो आतंकियों के पैसे से बनाई गयी है. ये मस्जिद हरियाणा के पलवल जिले में बन रही है.  हरियाणा के पलवल के गांव उटावड़ में आतंकवादी फंड से मरकज नामक मस्जिद बनाई जा रही है. जिसको लेकर गांव उटावड़ के रहने वाले सलमान नामक युवक को भारतीय खुफिया एजेंसी (एनआईए ) की टीम ने गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार युवक का मूल निवास स्थान जिला पलवल के मेवाती इलाके का उटावड़ गांव है. उक्त आरोपी मरकज मस्जिद उटावड़ में हर शुक्रवार को आता रहता है. मस्जिद के निर्माण में लगी करोड़ों रुपयों की धनराशि के बारे में एनआईए के अधिकारी पूछताछ कर रहे हैं. इस मामले में अन्य दो लोग भी गिरफ्तार किए गए हैं.

कौन हैं #Tausif और #AbdulNaeem जिनके लिए #NIA ने छेड़ रखी है मुहिम ? और हाँ आतंक का कोई….

एनआईए के सूत्रों के मुताबिक सलमान को दिल्ली स्थित उसके निवास से अरेस्ट किया गया. सलमान को गांव में बनाई जा रही मस्जिद में लाया गया, जहां मस्जिद में लगाई जा रही धन राशि के बारे में जानकारी प्राप्त की गई. बताया जा रहा है कि मस्जिद के निर्माण में में विदेश से आया धन खर्च किया गया है, उक्त धन अरब देशों से के जरिये आया था, जो कि सरकार के नियमों का उलंघन है. एनआईए ने सलमान के साथ जिन दो अन्य लोगों को अरेस्ट किया है तथा उनके टेरर फंडिंग के साथ जुड़े होने व एक की पाकिस्तानी नागरिक से भी संलिप्तता बताई जा रही है.

Share This Post