जयश्रीराम पर और बढ़ा हंगामा.. हुआ लाठीचार्ज और रोक दी गई ट्रेन.. खुलकर सामने आ रहे हिन्दू विरोधी चेहरे

पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान जयश्रीराम के उद्घोष को लेकर शुरू हुआ विवाद थमने के बजाय बढ़ता ही जा रहा है. अब स्थिति ये हो गई है कि राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को देखते ही लोग जयश्रीराम के नारे लगाने लगते हैं तथा जयश्रीराम सुनते ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बौखला जाती है. जयश्रीराम के उद्घोष को लेकर ममता दीदी तथा बीजेपी कार्यकर्ताओं की ये जंग शनिवार को उच्चतम स्तर पर पहुँचती हुई दिखाई दी.

खबर के मुताबिक़, तृणमूल कांग्रेस नेता व मंत्रियों के सामने ‘जय श्रीराम’ का नारा लगाने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं पर शनिवार को जमकर लाठियां बरसीं, इसके विरोध में भाजपा का झंडा थामे कार्यकर्ताओं ने कांचरापाड़ा स्टेशन पर ट्रेन रोककर प्रदर्शन किया तथा जमकर जयश्रीराम के नारे लगाये. बता दें कि नैहट्टी में की गई घोषणा के मुताबिक 14 जून को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कांचरापाड़ा में कार्यकर्ता सम्मेलन करेंगी, जिसकी तैयारियों को लेकर शनिवार को उत्तर 24 परगना तृणमूल महिला संगठन की सचिव आलोरानी सरकार के कांचरापाड़ा स्थित आवास पर तृणमूल नेतृत्व की बैठक थी.

बैठक में उत्तर 24 परगना जिले के तृणमूल प्रभारी व राज्य के खाद्य मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक, अग्निशमन मंत्री सुजीत बसु, पूर्व मंत्री मदन मित्रा, विधायक निर्मल घोष सहित कई नेता मौजूद थे. बैठक की पूर्व सूचना पाकर कांचरापाड़ा स्टेशन रोड पर पहले से ही सैकड़ों भाजपा कार्यकर्ता जुटे हुए थे. तृणमूल नेताओं की गाडि़यों के सामने भाजपा कार्यकर्ता ‘जय श्रीराम’ और बाद में उन नेताओं के नाम लेकर ‘गो बैक’ के नारे लगाने लगे.

इसे देखकर टीएमसी नेता भड़क उठे. देखते ही देखते पुलिस ने बीजेपी कार्यक्रताओं पर लाठीचार्ज कर दिया. इसके बाद स्थिति तनावग्रस्त हो गई तथा हंगामा बढ़ गया. परिस्थिति बिगड़ती देख स्थानीय व्यवसायियों ने अपनी दुकानों के शटर गिरा दिए. हंगामा की वजह से कई लोगों को चोट भी लगी. प्रदर्शनकारी भाजपा कार्यकर्ताओं का आरोप है कि थाना मोड़ स्थित भाजपा कार्यालय पर कब्जा करने की तृणमूल नेताओं के कोशिश के विरोध में उन्होंने प्रदर्शन किया है. भाजपा समर्थकों का दावा है कि पार्टी ऑफिस मुकुल राय के बेटे व चंद दिन पहले तक तृणमूल में रहे विधायक शुभ्रांशु राय के नाम पर है.

शुभ्रांशु राय मंगलवार को भाजपा की सदस्यता ले ली है, इसलिए अब यह कार्यालय भाजपा का है. उधर, शुभ्रांशु राय का भी स्पष्ट कहना है कि तृणमूल के लोग अगर पार्टी कार्यालय पर दावे से संबंधित कोई भी कागजात दिखा दें तो हम उस कार्यालय से दावा छोड़ने को तैयार हैं. जब शुभ्रांशु से पूछा गया कि आप क्या करेंगे तो उन्होंने कहा, मैं दीदी को कहूंगा जय श्रीराम.

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW