भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने की ताल ठोंकने वाले तेजस्वी पर लगा ऐसा आरोप जिसकी नींव में है भ्रष्टाचार

लालू के लाल तेजस्वी यादव.. जो भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई का दम भरते रहते हैं, जो अक्सर ट्विटर या ने तरीकों से जनता को ये विश्वास दिलाने की कोशिश करते रहते हैं कि उनकी लड़ाई भ्रष्टाचार के खिलाफ है.. हालाँकि ये अलग बात है कि उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले चल रहे हैं तथा उनके पिता लालू यादव तो भ्रष्टाचार के मामले में जेल की सलाखों के पीछे हैं.. भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई की बात करने वाले तेजस्वी के खिलाफ ऐसा आरोप लगा है, जिसकी नींव में ही भ्रष्टाचार है. तेजस्वी यादव पर पैसे लेकर तिक्त बेचने के आरोप लागए गये हैं.

एक पार्टी जिसके लगभग 700 पेज खुद फेसबुक को हटाने पड़े , क्योकि वो फैला रहे थे झूठ

तेजस्वी पर टिकट बेचने का आरोप किसी और ने नहीं बल्कि खुद आरजेडी के कार्यकर्ताओं ने लगाया है. खबर के मुताबिक़, रेन्द्र यादव को टिकट दिये जाने के विरोध के बावजूद उन्हें उम्मीदवार घोषित किए जाने से नाराज आरजेडी कार्यकर्ताओं का आक्रोश शनिवार को फूट पड़ा. जहानाबाद के सैंकडों कार्यकर्ता अपनी फरियाद लेकर तेजप्रताप यादव के पास पहुंचे. कार्यकर्ताओं का दावा था कि तेजप्रताप यादव ने उन्हें मिलने के लिए बुलाया है. और इस मसले पर फैसला लेंगे.

टिकट बेचने की मंडी बता गया अपनी ही पार्टी को.. कौन सी पार्टी है जिस पर आरोप है टिकट बेचने का

दरअसल सीटों की घोषणा से पहले जहानाबाद के आरजेडी कार्यकर्ताओं ने स्थानीय उम्मीदवार की मांग को लेकर राबड़ी आवास का घेराव किया था. तेजस्वी यादव से मिलने की जिद्द को लेकर कार्यकर्ता 9 घंटों तक राबड़ी आवास पर डेरा डाले रहे, लेकिन तेजस्वी यादव ने उनसे मुलाकात तक नहीं की. स्थानीय आरजेडी नेता मनोज यादव ने बताया कि तेजस्वी कहते हैं कि मोदी समांति हैं, लेकिन हकीकत यह है कि समांति मोदी नहीं बल्कि तेजस्वी हैं. हमलोग आरजेडी का झंडा ढोते हैं और उम्मीदवार देने के नाम पर हमसे सलाह तक नहीं ली जाती. जो उम्मीदवार लगातार तीन बार चुनाव हार चुका है उसे फिर से टिकट दे दिया गया है.

“मैं नही बनूंगा प्रधानमन्त्री” – मुलायम सिंह यादव

उन्होंने कहा कि जहानाबाद के टिकट में पैसों का लेनदेन हुआ है. तेजस्वी यादव के आवास पर हम दिनभर बैठे रहे लेकिन तेजस्वी यादव ने एक बार भी हमसे मिलना मुनासिब नहीं समझा. वहीं, जहानाबाद के दूसरे स्थानीय आरजेडी नेता संभू यादव ने कहा कि सुरेन्द्र यादव अपराधी चरित्र का आदमी है, हम उसका विरोध करेंगे. हमें तेजप्रताप यादव ने भरोसा दिलाया था कि सुरेन्द्र यादव को टिकट नहीं दिया जाएगा, लेकिन उसके बावजूद उसे टिकट दे दिया गया. अगर आरजेडी फैसला नहीं बदलेगी तो पार्टी को नुकसान उठाना पडेगा.

अमित शाह को गले लगाकर उद्धव ठाकरे ने कही ऐसी बात जो खुशी की लहर बनकर दौड़ गई हिंदूवादी संगठनों में

Share This Post