गैर मजहब की लड़की भागे तो दुनिया भर में शांति का ढिंढोरा. पर जब अपनी ही लड़की भागे तो होता है ये अंजाम…

ऐसे कई मामले सामने आए है जिसमें अलग मज़हब की लड़की को लड़का भगा ले गया हो. लेकिन तब कभी इस तरह की कोई खबर सुनने में नहीं आयी. लेकिन एक ही मज़हब के होने के बावजूद भी जब लड़का-लड़की एक दूसरे के साथ भाग गए तो लड़की के पिता रियासत ने लड़के के पिता शाकिर को मृत्युदंड दे दिया. मुजफ्फरनगर के रसूल गांव में लड़का-लड़की जब घर से भाग गए तो लड़की के पिता रियासत ने लड़के के पिता को बेहरहमी से पीटा जिससे उसकी मौत हो गयी. 
एसएसपी अनंत देव ने बताया कि लड़का लड़की का प्रेम संभंध था. जिसके चलते वे दोनों गांव से 3 जुलाई को भाग कर कही चले गए. गुस्से में आकर लड़की के पिता रियासत ने लड़के के पिता शाकिर को अगवा किया और फिर शाकिर की बुरी तरह से पीट पीटकर हत्या करने के बाद शव को कही फैक दिया। हत्या के इस मामले में रियासत सहित 6 और लोगो के खिलाफ आईपीसी की धारा 364 यानि अपहरण और हत्या के लिए अगवा करना और 302 यानि हत्या का केस दर्ज किया हैं. 
इस पूरी वारदात से ये बात सामने आती हैं कि अगर बेटा किसी और मज़हब की लड़की को भगा ले जाए तो कोई कुछ नहीं कहता बल्कि उसका साथ दिया जाता हैं, लेकिन बेटी अपने ही मज़हब के लड़के के साथ प्रेम सम्बन्ध रखे और उसके साथ भाग जाये तो उसका साथ कोई नहीं देता बल्कि जिस लड़के से उसने मोहब्बत की है उसे और उसके परिवार को सज़ा दी जाती हैं, यह कहाँ तक जायज़ हैं? 
Share This Post