जम्मू-कश्मीर में सियासी उलटफेर.. राज्यपाल ने भंग की विधानसभा.. ध्वस्त हो गये पीडीपी, NC, कांग्रेस के अरमान

जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने राज्य विधासनभा को भंग कर दिया है. जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग होने के बाद राज्य में सरकार बनाने के सारी उम्मीदें धूमिल हो गई हैं. राजभवन ने बयान जारी करते हुए कहा कि महामहिम राज्यपाल ने विधानसभा को भंग करने का निर्णय लिया है. राज्यपाल सत्यपाल मलिक के इस निर्णय के बाद सियासी घमासान तेज हो गया है तथा ध्वस्त हो गई हैं पीडीपी, कांग्रेस तथा एनसी की वो सारी उम्मीदें जिनके तहत वह राज्य में सरकार बनाने को गठबंधन किये थे.

आपको बता दें कि इससे पहले खबर आई थी कि पीडीपी ने कांग्रेस तथा एनसी के साथ मिलकर राज्य में सरकार बनाने की तैयारी की है. इसके बाद जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने राज्यपाल को फैक्स के जरिये पत्र लिखकर सरकार बनाने का दावा किया था। उन्होंने कांग्रेस और नेशनल कॉन्फ्रेंस के समर्थन से सरकार बनाने का दावा पेश किया. हालांकि मुफ्ती ने ट्विटर पर जानकारी दी कि यह फैक्स राज्यपाल कार्यालय की तरफ से रिसीव नहीं किया गया है और न ही राज्यपाल फोन उठा रहे हैं.

मुफ्ती ने अपने पत्र में लिखा, “जैसा कि आप जानते हैं कि राज्य विधानसभा में 29 विधायकों के साथ पीडीपी सबसे बड़ी पार्टी है. मीडिया के जरिए आपको जानकारी मिल ही गई होगी कि कांग्रेस और नेशनल कॉन्फ्रेंस पीडीपी के साथ सरकार बनाने पर सहमत हो गए हैं. एनसी के पास 15 और कांग्रेस के पास 12 विधायक हैं. इस तरह हमारे पास कुल 56 विधायकों का समर्थन है. मैं अपनी पार्टी की तरफ से सरकार बनाने का दावा पेश करती हूं. ” इसके बाद खबर आई कि राज्यपाल ने विधानसभा भंग कर दी है. आधिकारिक बयान में कहा गया कि राज्यपाल ने राज्य विधानसभा को जम्मू कश्मीर के संविधान के प्रासंगिक प्रावधानों के तहत भंग किया. धारा 53 के तहत विधानसभा को भंग किया गया है.

Share This Post

Leave a Reply