Breaking News:

कमीशन की आड़ में डॉक्टर लिख रहा है बाहर की दवा , मरीज महंगे दर पर दवा लेने को मजबूर

चंदौली / उत्तर प्रदेश 

चन्दौली:- प्रदेश सरकार के बार बार हिदायत के बावजूद डॉक्टरों के कार्यप्रणाली में कोई सुधार नही हो रहा है। सरकार का दावा है कि सरकारी हॉस्पिटलों में पर्याप्त दवा उपलब्ध करा दी गयी है। जिससे मरीजो को कही इधर उधर भटकना नही पड़ेगा।

लेकिन डॉक्टरों के मनमानी रवैये के चलते मजबूरन मरीज को बाहर की दवा खरीदनी पड़ रही है। ताजा मामला जनपद के *पंडित कमलापति त्रिपाठी राजकीय चिकित्सालय के अंदर स्थित आयुष चिकित्सालय का है,* जहाँ डॉक्टरों की तानाशाही ऐसी चलती है कि मरीजो को बाहर की दवा जबरजस्ती लिखी जाती है।

यदि कोई मरीज इसका विरोध किया तो डॉक्टर उनके साथ दुर्व्यवहार करने से भी गुरेज नही करते है। *सुदर्शन न्यूज चैनल के जिला संवाददाता* ने एक मरीज को बाहर से दवा ले जाते देखा तो मरीज के पीछे पीछे चलते हुए डाक्टर के पास पहुंच गया।

संबाददाता ने मरीज से पूछा कि दवा कहाँ से ला रहे हो तो मरीज ने बताया कि बाहर से मेडिकल की दुकान से दवा ले आरहा हूँ। इतने में *डाक्टर आसिफ जमाल ने डॉक्टर नितिन पर आरोप लगाते हुए जोर जोर से चिल्लाने लगे और कहने लगे कि तुमने मीडिया वालों को बुलाया है।* डाक्टर आसिफ जमाल के व्यवहार और कार्य प्रणाली से मरीज बाहर की दवा लेने की लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

सरकार की तमाम सुविधाओ के वावजूद भी मरीजो को कोई लाभ नही मिल रहा है। वही स्थानीय लोगो का कहना है कि डाक्टर *आसिफ जमाल भारी भरकम कमीशन लेने के लिए बाहर की दवा लिखते है।* इनके मनमाना रवैये के चलते मरीजो को आर्थिक एवं मानसिक रूप से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

इस पूरे प्रकरण को संज्ञान में लेते हुए *हिन्दू महासंघ के मंडल प्रभारी (वाराणसी) ओमप्रकाश सिंह* ने आक्रोश ब्यक्त करते हुए बताया कि पूरे प्रकरण से उच्चाधिकारियों सहित माननीय मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया जाएगा।

उन्होंने आगे बताया कि डॉक्टरों द्वारा बाहर की दवा लिखने पर पूर्णरूप से प्रतिबंध है। यदि ऐसे में डाक्टर बाहर की दवा लिखते हुए पाया जाता है तो उसके ऊपर कठोरतम कार्यवाही का प्रवधान है।

 

वेब जर्नलिस्ट 

प्रशांत सिंह 

92649 15248

 

विडियो देखे 👇

 

 

 

Share This Post