फतेहपुर पुलिस ने दबोचा मुश्ताक को तो उसने बताया कि क्यों कराना चाहता था वो बड़ा दंगा.. आप भी हो जायेंगे हैरान

उत्तर प्रदेश के फतेहपुर के बेहटा गांव में गोकशी की घटना के चौथे दिन मुख्य आरोपी मुश्ताक पुलिस के हत्थे चढ़ गया है. बिंदकी पुलिस ने आरोपी मुश्ताक को कानपुर देहात से पकड़ने का दावा किया है, हालांकि लिखापढ़ी में गिरफ्तारी जोनिहां चौराहे से दिखाई गई है. बता दें कि फतेहपुर के बेहटा गाँव में गोकशी की घटना तथा मदरसे में गो मांस मिलने के बाद हिन्दू समुदाय आक्रोशित हो उठा था तथा मदरसे में आग लगा दी थी. इसके बाद क्षेत्र में तनाव पैदा हो गया था.

हालाँकि अब गांव में हालात पटरी पर आ रहे हैं. समुदाय के लोगों में अभी दहशत का माहौल है. उनके बच्चे स्कूल नहीं जा रहे हैं. आरोपी की निशानदेही पर गांव में छिपाई कुल्हाड़ी, बांका, छुरी बरामद की है. बिंदकी कोतवाली क्षेत्र के बेहटा गांव निवासी मुश्ताक शाह उर्फ अली अहमद पुत्र मुन्नू शाह को चौकी इंचार्ज बीबी सिंह ने पकड़ा है. आरोपी की निशानदेही पर गांव में छिपाई कुल्हाड़ी, बांका, छुरी बरामद की है. आरोपी ने कबूल किया कि उसे मांस खाने की इच्छा हुई थी.

मुश्ताक ने कबूला है कि तभी उसने अलताफ व उमर के साथ रविवार की रात दो बजे पालतू गाय को तालाब किनारे काट डाला था, उसके अवशेष तालाब में फेंक दिए थे. मुश्ताक ने बताया है कि इसके बाद तीनों ने मांस का बंटवारा किया था. अवशेष उतराने से ग्रामीणों में चर्चा शुरू हो गई तो वह मांस की बोरी मदरसे में छिपाकर भाग गया तथा वह जंगल के रास्ते से घूमते-घूमते बिंदकी पहुंचा था. उसके बाद कानपुर देहात के गजनेर में रहने वाले एक रिश्तेदार के घर बुधवार को पहुंचा तथा वहीं छिप गया, जहाँ से पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया. कोतवाल नंदलाल सिंह ने बताया कि आरोपी को जेल भेजा गया है. उसकी निशानदेही पर गोकशी में प्रयुक्त हथियार बरामद किए गए हैं.

Share This Post