ताजमहल में पढ़ी गई नमाज तो जीत गई धर्मनिरपेक्षता लेकिन उसी ताज में पूजा करने पर हिन्दू संगठन की महिला कार्यकर्ताओं पर दर्ज हुई FIR

ताजमहल(तेजोमहालय) में पिछले दिनों जब मुस्लिम समाज के लोगों ने नमाज पढी तो एक तरह से इसे उनका हक़ बताया गया लेकिन उसके बाद जब हिंदूवादी संगठन अंतर्राष्ट्रीय हिन्दू परिषद् की महिला कार्यकर्ताओं ने ताजमहल में पूजा कर ली तो एक बार पुनः देश का सेक्यूलरिज्म खतरे में आ गया है. आपको ताजमहल में नमाज पढने के कारण अंतर्राष्ट्रीय हिन्दू परिषद् की महिला कार्यकर्ताओं के खिलाफ FIR दर्ज कराई गई है.

खबर के मुताबिक़, आगरा के ताजगंज थाने में हिंदूवादी संगठन अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद से ताल्लुक रखने वाली तीन महिलाओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है. बता दें कि 17 नवंबर को तीन महिलाओं ने ताजमहल में बनी करीब 400 साल पुरानी मस्जिद में पहुंचकर पूजा करी थी. इन महिलाओं ने मस्जिद परिसर में धूपबत्ती जलाई और गंगाझल भी छिड़का था. सोशल मीडिया पर संगठन की अध्यक्ष मीना देवी ने वीडियो जारी किया था. मीना देवी के मुताबिक अगर मुस्लिमों को नमाज पढ़ने की इजाजत है तो फिर हम भी ‘तेजोमहालय’ में पूजा कर सकते हैं.

कहा जाता है कि ताजमहल बनने से पहले यहां भगवान शिव का मंदिर ‘तेजोमहालय’ था, जिसे बाद में ताजमहल कर दिया गया. अब इस मामले पर अज्ञात 3 महिलाओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो गई है. जांच के लिए सीआईएसएफ से सीसीटीवी फुटेज मांगा गया है। वहीं अधिकारियों का कहना है कि सीआईएसएफ के जवानों को मस्जिद में प्रवेश करने की इजाजत नहीं है. इसलिए वे इस घटना के बारे में कुछ नहीं जानते हैं. बता दें कि महिलाओं ने पूजा करने का पूरा वीडियो बनाया था और उसे वायरल भी कर दिया था. पिछले दिनों 14 तारिख यानी मंगलवार को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने रोक के बाद ताज में नमाज पड़ी थी. ताज में नमाज अदा करने के विरोध में राष्ट्रीय बजरंगदल ने ताजमहल में पूजा करने का ऐलान किया था तथा पूजा की थी जिसके बाद उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई है.

Share This Post