पुरे राज्य में बेखोफ चला रहे थे पांच रुपए के नकली सिक्के, अब जा कर हुआ पर्दाफाश

उदयपुर: उदयपुर के थाना
पुलिस ने शनिवार को एक नकली सिक्के बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया। ये गिरोह
मिक्षित धातुओं और स्टील की मदद से नकली सिक्के बनाता था। आपको बता दें कि ये
गिरोह गिरफ्तारी से पहले लगभग
5 लाख रुपये के नकली सिक्के बाजार में उतार
चुका था। पुलिस के अनुसार उनके मुखबिर से मिली जानकारी की मदद से ही पुलिस ने एक
मकान पर छापा मारकर
5 रुपये के सिक्के बनाने में लगने वाला सभी
सामान डाई और कुछ नकली सिक्के भी बरामद किए है। पुलिस ने मकान पर मौजुद ललित सैनी
को भी मौके पर गिरफतार कर लिया आरोपी ने पुलिस को
5 लाख रुपये के
नकली
5 रुपये के सिक्के टोल पर देने की जानकारी भी दी है। पुलिस ने आरोपी के दो ओर सहयोगियों शिव लाल सोनी और सौरभ जैन की
तलाश में जुटी हुई है और मामले की जांच कर रही है।

आपको बता दें कि पिछले साल भी पुलिस को एक ऐसी ही खबर मिली
थी जिसमे पुलिस को बताया गया था कि नकली सिक्के से
जुड़े गिरोह के सदस्य दिल्ली के शिव विहार पहुंच रहे हैं। पुलिस के मुताबिक
50 फुटा रोड पर कार से
दो युवक कई बैग के पैकेट लेकर नीचे उतरे, तभी पुलिस की टीम ने दोनों आरोपियों को
दबोच लिया। दोनों की पहचान गुलशन कुमार एवं सचिन उर्फ सोनू के रूप में हुई। गुलशन
के पास से
5 रुपये के सिक्के बनाने के चार उपकरण एवं 5 रुपये के 113 नकली सिक्के बरामद
हुए, तो वहीं, सचिन के पास से
20 पैकेट बरामद हुए। हर पैकेट में 20 हजार कीमत के 100 सिक्के थे।

इन सब के अलावा टीम ने उनके विजयलक्ष्मी पार्क शिव विहार
निलोठी स्थित उनके किराए के मकान मे छापा मारकर लगभग
3.57 लाख रुपये के सिक्के और अंबाला स्थित सिक्का बनाने वाली
फैक्टी पर हुई छापेमारी में भी लगभग
82,030 के
सिक्के बरामद किए।


इसके साथ ही मौके से पॉलीसीलर मशीन, पोर्टेबल बैग समेत
अन्य उपकरण सीज किए। ऐसा ही एक मामला राजस्थान चूरू स्थित नवलगढ़ स्थित का सामने
आया है, जहां पुलिस ने एक अन्य स्थान पर छापेमारी कर वहां से
1.37 लाख कीमत के
नकली सिक्के बरामद किए।
ये गिरोह 5 और 10 रुपये के सिक्के बनाने के लिए लोहे का इस्तेमाल करते थे और
ये सभी सिक्के वो लोग दिल्ली एनसीआर और हरियाणा राज्यस्थान जैसे बड़े शहरों के मॉल
और बाजारों में सप्लाई किया करते थे।


 

Share This Post