बुर्का बना था 3 तलाक़ की वजह…..फिर बोला – दोस्त से करवा लो हलाला


मजहबी लोगो को कोर्ट में महिलाओं के पक्ष में सुनाया गया फैसला रास नहीं आ रहा है इसलिए दिन व दिन तीन तलाक के मामले बढ़ते जा रहे है जिनमे महिलाओं को शिकार बनाया जा रहा है। ये मजहबी लोग महिलाओं को हमेशा इनके अधिकारों से वंचित रखते है लेकिन अब जब इनके हक़ और अधिकार पर कोर्ट ने पक्ष लिया तो इन मजहबी लोगो के स्वाभिमान को ठेस पहुंची। क्यों अभी भी समुदाय विशेष के लोग कोर्ट के फैसले को नहीं मान रहे है।

कोर्ट के अनुसार तीन तलाक एक अपराध है तो क्यों मजहबी लोग इसकी निंदा कर रहे है ?क्या ये अपने आप को कानून से भी ऊपर मानते है जो अभी तक फैसले पर अमल नहीं किया ?

बता दे कि ऐसा ही एक मामला शाहगंज थाने में सामने आया है जिसने सबको चौका दिया है। सिर्फ बुर्का न पहनने की इतनी बड़ी सजा की महिला की ज़िन्दगी ही बर्बाद कर दी ऐसा करना कहा तक सही है। मजहब के नाम पर ये मजहबी लोग महिलाओं पर अत्याचार करते है और जबरदस्ती इनको मजहबी जंजीरो में बांधकर रखते है। जिसने भी इन जंजीरों को तोड़ने की हिमाकत की तो उनकी ज़िन्दगी ही तबाह कर दी जाती है।

एक युवक ने अपनी पत्नी को बुर्का न पहने की ऐसी सजा दी कि जिसे सुनकर आप सब भी दंग रह जाएंगे। महिला बिना बुर्का पहने बाज़ार चली गयी थी और युवक ने इतनी सी बात का बवाल बना दिया। युवक ने अपनी पत्नी को बुर्का न पहनने की वजह से तलाक दे दिया इतना ही नहीं उसने रात में ही अपने दोस्त को हलाला के लिए बुलाया। अभी ये शर्मनाक खेल यही तक खत्म नहीं होता है महिला का शोषण ससुराल में सबके सामने हो रहा था रोकने की बजाय उसकी वीडियो बनाई गयी। पीड़िता की बहन ने अपने जीजा के खिलाफ थाने में मुकदमा दर्ज कराया। पीड़िता की बहन ने बताया कि उसकी बहन को सास, ससुर और ननद ने बहन को बेरहमी से पीटा। इंस्पेक्टर शाहगंज ने बताया कि आरोप बेहद गंभीर हैं। पुलिस इस मामले की जांच करने में जुटी है जल्द ही आरोपी को हिरासत में लिया जाएगा। 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share