लाल सलाम बोलने वाले वो दरिंदे निकले बलात्कारी भी.. बच्ची थी मात्र 14 साल की

वो लाल सलाम बोलकर अपने ही देश के खिलाफ हथियार उठा देश के सुरक्षाबलों के खून के प्यासे बने हुए हैं.. इस सबके बाद भी देश के तमाम कथित बुद्धिजीवी तथा राजनेता उनके समर्थन में आवाज उठाते रहते हैं, उन्हें शोषण के खिलाफ लड़ने वाला क्रांतिकारी बताते हैं. लाल सलाम बोलकर सुरक्षाबलों तथा राष्ट्रवादियों की जान लेने वाले दरिंदों के बारे में चौंकाने वाली खबर सामने आई है. वो खबर जिसे सुनकर आपकी रूह कांप उठेगी.

उधर हो रही थी विश्वास जीतने की कोशिश, इधर पुलवामा में तीन और गद्दारों ने उठा लिए भारत के खिलाफ हथियार

मामला झारखण्ड के खूंटी जिले का है जहाँ लाल सलाम के पैरिकार 13 नक्सलियों ने 14 वर्षीय नाबालिग के साथ सामूहिक दुष्कर्म को अंजाम दिया है. पीड़िता के बयान पर खूंटी के एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है. बता दें कि नाबालिग के साथ पिछले साल अक्टूबर में ही सामूहिक दुष्कर्म की ये घटना हुई थी, लेकिन वारदात के बाद मानसिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण नाबालिग का बयान दर्ज नहीं हो पाया था. नाबालिग की मानसिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण बाल कल्याण समिति खूंटी की अभिरक्षा में रखा गया था.

कर्नाटक की कुर्सी में कितने कांटे.. बोले मुख्यमंत्री- “हर दिन सह रहा हूं दर्द

लगातार इलाज के बाद नाबालिग बयान देने की स्थिति में आई, तब जाकर बाल कल्याण समिति ने ही नाबालिग का बयान लिया. इसके बाद इसकी जानकारी एएचटीयू थाने के साथ-साथ खूंटी डीसी-एसपी और एडीजी स्पेशल ब्रांच और सीआईडी एडीजी को दी गई है. प्राप्त जानकारी के अनुसार पीड़िता ने खूंटी बाल कल्याण समिति को दिए बयान में बताया है कि अक्टूबर 2018 को गांव का ही सामुएल पूर्ति उसके घर आया. तब वह घर में अकेली थी, सामुएल के साथ जंगल से आए 12 हथियारबंद नक्सली भी थे. सभी ने उसके साथ जबर्दस्ती शारीरिक संबंध बनाया.

UP के मुरादाबाद में गिरफ्तार बलात्कारी मदरसा संचालक फुरकान.. छात्रा के साथ किया था गैंगरेप तथा बनाई थी वीडियो

नाबालिग ने अपने बयान में कहा है कि घटना के बाद से ही उसकी मानसिक स्थिति खराब हो गई थी. सामुएल पूर्ति ने उसके साथ मारपीट की थी, साथ ही डराया धमकाया भी था. नाबालिग ने अपने बयान में बताया है कि घटना के बाद किसी तरह भागकर वह खूंटी पहुंची. खूंटी में पुलिस वालों ने उसे बरामद किया. इसके बाद चाइल्ड लाइन को सौंप दिया, लेकिन तबीयत काफी खराब होने के कारण उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. अस्पताल से छूटने के बाद नाबालिग को आशा किरण में रखा गया था. बाल कल्याण समिति ने पीडिता को मुआवजा देने और पुनर्वासित करने की मांग भी खूंटी डीसी और बाल संरक्षण पदाधिकारी से की है. इसके बाद पुलिस प्रशासन सक्रिय हो गई है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW