सतर्क बदायूं पुलिस ने फौरन काबू किये हालात और दबाया उन्माद को.. SSP बोले – “गिरफ्तार होंगे एक एक दोषी”.. बचिए अफवाहों से

उन दोषियों की मंशा निश्चित तौर पर ठीक नहीं थी . वो समझ रहे थे त्योहारों की संवेदनशीलता को और उसको भुनाना चाह रहे थे अपने नापाक मंसूबों को लेकिन कुछ समझदारी जनता की और उतनी ही सतर्कता बदायूं पुलिस की भी जिसने समय रहते टाल दिया एक बड़ी साजिश द्वारा रचे बुने ताने बाने को .. इसमें साजिशो का दोहरा स्तर सामने आया है जिसमे पहली रची गई जमीनी स्तर पर तो दूसरी रची गई थी सोशल मीडिया पर जो अब विफल हो गई है .

ध्यान देने योग्य है कि जिस प्रकार से साम्प्रदायिक रूप से बदायूं जिले की संवेदनशीलता है उसी हिसाब से वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार त्रिपाठी के नेतृत्व में पुलिस की व्यूह रचना भी रची गई थी .. इसको भेद पाना लगभग असम्भव था लेकिन कुछ दुस्साहसिक लोगों ने इसको करने के लिए कानून तोड़ने का दुस्साहस कर डाला जिस पर पुलिस ने उठाया है बेहद सख्त कदम .. ये दुस्साहस किया गया है बदायूं के इस्लाम नगर क्षेत्र में बकरीद की नमाज़ के बाद जब एक ट्रैक्टर ट्राली पर किया गया हमला जिसमे कुछ शिवभक्त जा रहे थे ..

जान बूझ कर ऐसी जगह कोई चुना गया था जहाँ पुलिस वाले कम संख्या में थे.. मौके पर मौजूद पुलिस वालों ने हालत को सम्भालने की हर सम्भव कोशिश की और अतिरिक्त पुलिस बल की मांग की . जब तक अतिरिक्त पुलिस बल आता तब तक एक झडप हो चुकी थी जिसमे एक व्यक्ति घायल हो चुका था और कुछ और को पत्थर आदि की चोट आई .. समझदारी थी यहाँ पर ट्रैक्टर चालक की जिसने हालात को देखते हुए ट्रैक्टर तेजी से भगाया और अधिकतम सुरक्षित स्थल पर पहुचाया है .

जब इस मामले की जानकारी उच्चाधिकारियों को हुई तब वो फ़ौरन ही मौके पर पहुचे और आक्रोशित लोगों को समझा बुझा कर हालत को तेजी से सामान्य किया. यहाँ पर प्रसंशा करनी होगी SSP बदायूं की जिन्होंने हालात को पूरी तरह से सामान्य करने में सबसे बड़ी भूमिका निभाई.. SSP ने लोगों को समझाने में सफलता पाई है कि किसी भी दोषी को किसी भी रूप में नहीं छोड़ा जायेगा और हर उसको पुलिस जेल भेजेगी जिसका हाथ होगा आज उन्माद फ़ैलाने की साजिश में प्रत्यक्ष रूप से या परोक्ष रूप से .

इसी बीच अचानक ही बदायू का बता कर मुज़फ्फरनगर का एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया जाने लगा जिसमे कुछ उन्मादी एक वाहन को तोड़ रहे थे. सामान्य हालात को फिर से भड़काने की एक और साजिश थी जो वीडियो की सत्यता और मुज़फ्फरपुर बिहार का साबित होने के बाद विफल हो गई . कुल मिला कर वर्तमान समय में बदायूं में शांति और सामान्य हालात हैं.. पुलिस एक एक दोषी को सज़ा दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है और कड़ी कार्यवाही की तरफ अग्रसर है ..

Share This Post