धन्यवाद कीजिये एसएसपी अभिषेक यादव का” जिन्होंने तोड़ दिया उस रैकिट को जिस पर हाथ डालने से बचते रहे अधिकारी


मुज़फ्फरनगर/उत्तर प्रदेश

जनपद मुजफ्फरनगर में एसएसपी अभिषेक यादव द्वारा अपराधियों और तस्करों का नेटवर्क तोड़ने का कार्यक्रम जारी है जिला पुलिस द्वारा पहले शराब माफियाओं पर शिकंजा कसते हुए करोड़ों की अवैध नकली शराब बरामद कर दर्जनों लोगों को सलाखों के पीछे भेजा तो आज फिर एसएसपी ने मुजफ्फरनगर को उड़ता पंजाब बनने से बचा लिया है क्योंकि जो हम आपको बताने जा रहे हैं उसे देखकर आप भी हैरान हो जाएंगे कि जनपद मुजफ्फरनगर में नशे के सौदागर कितनी भारी मात्रा में नशे का अवैध कारोबार चला रहे थे। और खाश बात यह हैं कि आबकारी विभाग के दफ्तर से मात्र 100 मीटर की दुरी पर नौजवानों की जिन्दगी बर्बाद करने वाला यह खेल खेला जा रहा था और ऐसा भीनहीं कहा जा सकता की आबकारी विभाग को इसकी जानकारी नहीं थी। इस बड़े रैकिट को आबकारी विभाग सम्बंधित थाना व समाज को आईना दिखाने वाले कुछ लोगो का संरक्षण प्राप्त था। इस मामले में मुज़फ्फरनगर के एसएसपी के हौशले कि आमजनता में सराहना हो रही है, वही दूसरी और दलालों में हडकंप मचा है।हलाकि इस नेटवर्क को तोड़ना इतना आसान नही था। बहुत अधिकारी आये और चले गए जानकारी होते हुए भी इस गैंग पर हाथ डालने की हिम्मत कोई नही जुटा पाया, इस रैकिट को ध्वस्त करने वाली टीम को 25000 रु इनाम देने की घोषणा की गई है। जो एक सराहनीय कदम है। लेकिन हम एक सवाल भी खड़ा कर रहे हैं। जिन थानाछेत्रों में यह खेल सालो से चलता आ रहा है।और उनको जानकारी होते हुए भी कार्यवाही नहीं की गई उन थानाध्यक्ष की भी जवाबदेही तय की जानी चाहिए। कुम्भकर्णी नींद सोया आबकारी विभाग पर भी कार्यवाही की जानी चाहिए जिनके A/C दफ्तर से मात्र 100 मीटर की दुरी पर इस नशे के कारोबारियों का मुख्य ठिकाना बना रहा, और सारी डीलिंग यही से होती रही, फिल्ड में जाने के लिए उपयुक्त संसाधन उपलब्ध न होने का रोना रोने वाले आबकारी विभाग की बगल में ही सालो चलता रहा रैकिट। लेकिन IPS अभिषेक यादव की इच्छाशक्ति के सामने इस रैकिट को ध्वस्त होना ही पड़ा।

और पुलिस ने 6 नशे के सौदागरों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेजा है वही एक नशे का सौदागर पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया है पुलिस ने पकड़े गए नशे के इन सौदागरों के कब्जे से भारी मात्रा में नशे की सामग्री बरामद की है खुलाशा करने वाली क्राइम ब्रांच व थाना सिविल लाइन पुलिस टीम को पच्चीस हजार रुपये का पुरुस्कार देने की घोषणा की है।

दरअसल जनपद मुजफ्फरनगर में पिछले काफी समय से नशे के सौदागर सक्रिय थे जो रोजाना जनपद में लाखों रुपए की कीमत का नशीला बेचकर जनपद युवाओं के खून में नशा भर कर जनपद को उड़ता पंजाब बनाने पर तुले हुए थे इस बात की भनक जनपद मुजफ्फरनगर के एसएसपी अभिषेक यादव को लगी तो उन्होंने इस कारोबार को तोड़ने के लिए थाना सिविल लाइन पुलिस व जनपद की क्राइम ब्रांच टीम को संयुक्त रूप से लगाया जिसमें पुलिस ने 6 नशे के सौदागरों को नशीला पदार्थ बेचते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया पकड़े गए नशे के इन सौदागरों के कब्जे से पुलिस ने 14 लांख की कीमत की 65 किलो 50 ग्राम गांजा, 1 लांख की कीमत की 40 ग्राम स्मैक, 50 हज़ार की कीमत की डेढ़ किलो चरस , 11 मोबाइल फोन 5 इलेक्ट्रॉनिक कांटे 32 हज़ार नशीले पदार्थ के पैकेट आदि बरामद किए है

एसे करते रहे हैं। नशे का कारोबार-मुजफ्फरनगर के एसएसपी अभिषेक यादव ने पुलिस लाइन स्तिथ सभागर कक्ष में प्रेस वार्ता करते हैं पूरे प्रकरण का खुलासा किया और बताया कि सरकारी भांग के ठेके का लाइसेंस अपने रिश्तेदार सोनू पुत्र अतर सिंह निवासी सेनपुर थाना बुढ़ाना के नाम पर लिया हुआ हैं तो वही यह लोग सरकारी ठेके की आड़ में अवैध धंधे करते हैं और अंतर राज्य में अपना नेतत्व फैलाकर अवैध नशे का कारोबार करते थे।

युवाओ की जिन्दगी बर्बाद करने का सामान भारी मात्रा में बरामद- क्राइम ब्रांच टीम व थाना सिविल लाइन पुलिस की संयुक्त टीम ने अंतर राज्य स्तर पर अवैध मादक पदार्थों चरस, गांजा, स्मैक आदि का कारोबार करने वाले गैंग का पर्दाफाश कर 6 शातिर तस्करो को गिरफ्तार किया है तो वहीं उनके कब्जे से लगभग 12 लांख की कीमत का 65 किलो, 50 ग्राम गांजा, व एक लाख रुपये की 40 ग्राम स्मैक एवं पचास हजार रुपये की डेढ़ किलोग्राम चरस व 32000 पैकिंग की पन्नी एवं पांच इलेक्ट्रॉनिक कांटे तथा 11 मोबाइल फोन व अन्य सामान भी पुलिस टीम ने बरामद किया है गिरफ्तार किए गए नशे के कारोबारियों के नाम मनोज पुत्र श्रीचंद् बुढ़ाना व रजनीश पुत्र राम भजन गांव गड़नापुर थाना हरपालपुर हरदोई, व तीसरे का नाम जितेंद्र पुत्र चंद्रपाल सिंह निवासी क्वारसी जनपद अलीगढ़ व चौथे आरोपी का नाम बालेंद्र पुत्र राजवीर निवासी कुरथल थाना बुढ़ाना व पांचवे आरोपी का नाम राहुल पुत्र जय कुमार निवासी कुरथल थाना बुढ़ाना जिला मुजफ्फरनगर व छठे आरोपी का नाम संजय पुत्र रामपाल निवासी पंडारी नवाबगंज थाना सांडी जनपद हरदोई बताया जा रहा है।तो वहीं फरार हुए तस्कर का नाम प्रमोद पुत्र धन्नी निवासी छपरगढ़ थाना दनकौर जनपद गौतम बुध नगर बताया जा रहा हैं।

 

रिपोर्ट

समर ठाकुर/सुदर्शन न्यूज़

Mob-9368004900

 

 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...