बिना NRC के ही उत्तर प्रदेश में हो रहा वो सब जो था बेहद जरूरी.. योगी अटल हैं अपने आदेश पर

योगी आदित्यनाथ शासित उत्तर प्रदेश में बिना NRC के ही वो सब शुरू हो गया है, जो सूबे को मजहबी संक्रमण से बचाने के लिए बेहद जरूरी था. भले ही यूपी में NRC शुरू न हुई है लेकिन सीएम योगी राज्य को मजहबी उन्माद से सुरक्षित रखने के अपने आदेश पर अटल हैं. खबर के मुताबिक़, उत्तर प्रदेश में में अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों की तलाश तेज हो गई है. यूपी पुलिस बिना NRC के ही अलग-अलग इलाकों में बकायदा अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों की पहचान के लिए अभियान चला रही है.

यूपी पुलिस द्वारा सूबे में अवैध घुसपैठियों के खिलाफ चलाए जा रहे इस अभियान की आम जनता द्वारा जमकर सराहना की जा रही है. लोगों का कहना है कि ये अभियान काफी जरूरी था क्योंकि राज्य में बड़ी संख्या में घुसपैठी जगह बना चुके हैं, जिन्हें बाहर करना जरूरी है. शुक्रवार को लखनऊ में भी पुलिस ने ये अभियान चलाया. इस अभियान के तहत लखनऊ में अवैध रूप से रह रहे विदेशी नागरिकों के अस्थायी बस्तियों में पुलिस पहुंची और उनके पहचान पत्र की जांच की और इन इलाकों में रहने वाले जिस भी विदेशी नागरिक ने स्थानीय प्रमाण पत्र नहीं दिखाया पुलिस उन्हें पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई.

जानकारी के मुताबिक़, बांग्लादेशियों को तलाशने और उन्हें बाहर करने पर शासन की सख्ती के बाद डीजीपी  ने यूपी पुलिस को कड़े निर्देश दिए हैं. इसी के तहत बांग्लादेशी लोगों के बारे में जानकारी जुटाने और कार्रवाई की जा रही है. डीजीपी ने बीते मंगलवार को गृह राज्य विभाग के 27 अक्टूबर 2017 के पत्र का हवाला देते यह निर्देश जारी किया है. जिलों के सभी पुलिस कप्तानों के नाम जारी इस पत्र में शहर के बाहरी इलाकों के रेलवे स्टेशन, बस अड्डों और नई बस्तियों में अवैध तरीके से रहने वाले अवैध विदेशी नागरिकों को चिह्नित करने के निर्देश दिए गए हैं.

डीजीपी मुख्यालय द्वारा भेजे गए पत्र में कहा गया था कि शहर के बाहर स्थित रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड और सड़क किनारे बसी नई बस्तियों में यह अभियान चलाया जाए. इन बस्तियों में शिनाख्ती अभियान की वीडियो रिकॉर्डिंग भी कराई जाएगी. इन बस्तियों में ज्यादातर बांग्लादेशियों के रहने का अनुमान है. इतना ही नहीं सत्यापन के दौरान अगर कोई व्यक्ति अपना पता किसी अन्य जिले या राज्यों में बताता है तो उसका भी डाटा तैयार किया जाएगा. इसके बाद ही बिना वीजा पासपोर्ट के अनाधिकृत ढंग से भारत  के किसी भी कोने में रहने वाले बांग्लादेशी और विदेशी नागरीको की तलाश की जा रही है. डीजीपी ओपी सिंह ने उत्तर प्रदेश पुलिस को ऐसे लोगों को पता लगा कर सूची भेजे जाने के निर्देश भी दिए हैं. लिहाजा यह अभियान अब तेजी से पूरे यूपी में पुलिस चला रही है.

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे लिंक पर जाएँ –

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW