शेर की तरह गौ हत्यारों से लड़ी सहारनपुर पुलिस और दबोच लिया 6 को.. २ महिला अभियुक्त भी गिरफ्त में


गौ कशी के खिलाफ जहाँ लखनऊ से उत्तर प्रदेश शासन ने अपने कड़े नियम बनाए हैं तो वहीँ उसको जमीन पर लागू करवाने की जिम्मेदारी सहारनपुर की पुलिस ने बाखूबी निभाई है और दबोचा है उन गौ हत्यारों को जो गाय के बहाने तोड़ रहे थे कानून और प्रभावित कर रहे थे समाज की शांति और शौहर्द को . यहाँ ये भी ध्यान देने योग्य है कि सहारनपुर पुलिस ने अवैध बंगलादेशियो को गिरफ्तार करने में भी बाकी जिलों से बेहतर कार्य किया है .

विदित हो कि सिर्फ चुनावी समय में ही नहीं बल्कि लगभग हर समय चौकन्नी सहारनपुर पुलिस की सतर्कता उस समय काम आई जब थाना गंगोह के गाँव सांगाठेडा में रात्रि गश्त के दौरान पुलिस बल की गौ कशी करते हुए अभियुक्तो से मुठभेड़ हो गयी . पुलिस को सटीक सूचना मिली थी जिस पर पुलिस ने घेराबंदी की लेकिन अभियुक्तों ने दुस्साहस दिखाते हुए पुलिस बल पर फायरिंग शुरू कर डाली .. पुलिस बल ने खुद को गोलियों से बचाते हुए जिस प्रकार से अभियुक्तों को भागने नहीं दिया उस रण कौशल की जितनी भी प्रशंसा की जाय उतनी ही कम है ..

इस पुलिस टीम में सीनियर सब इंस्पेक्टर राधेश्याम , सब इंस्पेक्टर रेशमपाल सिंह , सब इंस्पेक्टर विनीत मालिक, सब इंस्पेक्टर अनिल कुमार हेड कांस्टेबल राजीव कुमार ,  कांस्टेबल गौरव , सुशील , तरुण ,  अंशु आदि रहे जिनके अदम्य साहस के चलते गौ हत्यारों को दबोचा जा सकता . गिरफ्तार गौ हत्यारों के पास से पुलिस ने खाल , सिर और पैर मिला कर 150 किलो गौ मांस , तीन मोटरसाइकिल और तमंचा आदि बरामद किया गया है .

गिरफ्तार हुए अभियुक्तों में २ महिलायें भी शामिल हैं . इनके नाम वाहिद, इमरान , रिजवान, मोहसिन और २ महिलायें इरशाना और फरजाना हैं . इतना ही नहीं इनके पास से कुल्हाड़ी , छुरी , गंडासा , सुंबी , लकड़ी के गुटके , कम्प्यूटर तराजू और ज़िंदा कारतूस भी बरामद किये गये हैं . सहारनपुर पुलिस द्वारा इन गौकसो को गोलियों की बौछार के बीच सहस से गिरफ्तार किया जाना आम जनता के बीच चर्चा और तारीफ का विषय बना हुआ है . यहाँ ध्यान देने योग्य ये भी है कि सहारनपुर पुलिस की कमान वहां के एसएसपी दिनेश कुमार पी के हाथो में आने के बाद अवैध बंगलादेशियो और गौ हत्यारों के साथ साथ खनन आदि के कार्यों में लिप्त अवैध लोगों पर प्रभावी और अभूतपूर्व कार्यवाही हुई है जिसके चलते आम जनमानस का पुलिस में विश्वास बढ़ा है .. इतना ही नहीं वर्तमान पुलिस प्रशासन के कड़े और सुलझे कदमों के चलते सहारनपुर में मजहबी या जातिवादी उन्मादी भी पस्त हो चुके हैं .


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share