गौ माता का सम्मान करने का निवेदन किया था उस मदरसे के संचालक ने… अब उसकी जान के पीछे पड़े लोग कोई और नहीं बल्कि…

 देश में आज करोड़ो लोग ऐसे है जिनकी जिंदगी जिहाद और पाकिस्तान के समर्थन गुजर जाती है। आज भी उन लोगो को भारत जैसे

धर्मनिरपेक्ष देश में अपने मजहब से बड़ा कुछ नहीं दिखता। पूरी दुनिया में आतंक और जिहाद फैलाने के लिए आज इस्लाम धर्म के अनुयाई सबसे ऊपर है। लेकिन

इनके बीच कुछ लोग ऐसे भी है जो अपने धर्म की कट्टरता और नियमों से परेशान है। और वे दुनिया और भारत के सनातन धर्मं के साथ मिलकर कुछ अच्छा

काम करना चाहते है।

लेकिन उनके मजहबी ठेकेदार उन्हें अच्छे और देश हित में कार्य करने की इजाजत नहीं देते उन्हें ये गैर इस्लामिक दिखते है।

दरअसल संभल जिले के मऊ भूड़ स्थित मदरसा मोहम्मद अली जौहर के फिरोज खां ने गोरक्षा के समर्थन में शुक्रवार को सुबह अपने फेसबुक एकाउंट पर एक

पोस्ट डाली थी। जिस पर सुबह से दोपहर तक कई ऐसे आपत्तिजनक कमेंट आए जो बिलकुल बर्दास्त से बाहर थे। गोरक्षा की आवाज उठाने वाले मदरसा प्रबंधक

के खिलाफ फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी किए जाने का मामला उस वक्त तूल पकड़ गया जब मदरसा प्रबंधक ने कार्रवाई के लिए तहरीर दी। अपर पुलिस अधीक्षक

से मिलकर मदरसा प्रबंधक ने उन्हें ज्ञापन के साथ तहरीर देने के साथ ही रिपोर्ट दर्ज कराने की मांग की है।

जिस पर अपर पुलिस अधीक्षक पंकज कुमार पांडेय

ने उन्हें कार्रवाई का भरोसा दिया। साथ ही कोतवाली पुलिस को जांच के निर्देश दिए हैं।फिरोज खां ने अपने फेसबुक एकाउंट से संबंधित पोस्ट और उस पर लिखे

गए कमेंट के प्रिंट निकाल कर अपर पुलिस अधीक्षक को दिखाए।

फिरोज ने कहा कि पशु तस्कर और गाय के हत्यारे उनकी गोरक्षा मुहिम से गुस्सा हैं। इसलिए उनकी जिंदगी को खतरा है। कुछ लोग उन्हें धमका रहे हैं।

फेसबुक

पर उन्होंने यही कहा था कि अगर इसी तरह से गाय की हत्या होती रही और दुधारू पशुओं का कटान जारी रहा तो वह दिन दूर नहीं है जब हमारी आने वाली पीढ़ी

दूध के लिए तरस जाएगी। इसलिए गाय की हत्या और दुधारू पशुओं का कटान बंद होना चाहिए। फिरोज खां ने बताया कि इसी मसले पर एक नेता के इशारे पर

एक व्यक्ति ने उन्हें दबाव में लेने का प्रयास किया है। उनका मनोबल तोड़ने के लिए फेसबुक पर अभद्र भाषा का इस्तेमाल उनके लिए किया है। इस मामले में

जांच के बाद दोषी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की जाए।

Share This Post

Leave a Reply