एकतरफा नहीं चौतरफा वार झेल रहा भारत का हिन्दू .. इस बार आरोप लगाने वाला है एक ईसाई

हिन्दू समुदाय की मासूम और भोली भाली लड़कियों को आये दिन गुमराह किया जा रहा है। लव जिहाद से तो सभी वाकिफ है जिसने न जाने कितनी लड़कियों की जिंदगी को तबाह कर दी है। इसी तरह अब ईसाई समुदाय भी हिन्दू समुदाय की लड़कियों को गुमराह करने में पीछे नहीं हटा है। इस कदर लड़कियों को अपनी जाल में फसाते है कि लड़कियां अपने ही माता पिता के खिलाफ खड़ी हो जाती है। पूरी तरिके से अपने समुदाय को हिन्दू लड़कियों पर इस कदर हावी कर देते है कि अपना धर्म तक बदलने के लिए तैयार हो जाती है।

ऐसा ही एक मामला केरल में सामने आया जहां पर हिन्दू समुदाय की युवती ने हिन्दू संगठन पर ही आरोप लगाना शुरू कर दिया। बता दे की इस युवती का नाम श्वेता है जिसने आइजक नाम के ईसाई लड़के के साथ पीची के एक मंदिर में शादी की थी।

अब यही युवती अपने ही माँ बाप पर इलजाम लगा रही ही। इतना ही नहीं अपने ही समुदाय के हिन्दू संगठनों पर सवाल उठा रही है। युवक ने इस कदर युवती पर अपना जादू चलाया कि आज वो अपने ही समुदाय के खिलाफ हलफनामा तक कोर्ट में दायर कर दिया।

ईसाई हो या समुदाय विशेष सब हिन्दू लड़कियों को उनकी राह से भटका रहे है और उन्हें हिन्दू संगठनों के खिलाफ इस्तेमाल कर रहे है। श्वेता ने केरल हाई कोर्ट में दायर हलफनामे में कहा कि” वो ईसाई युवक से शादी न कर पाए इसलिए उसे कोची के एक योग केंद्र में 22 दिनों तक बंधक बना कर रखा गया था।

इतना ही नहीं उसने ये बी कहा कि योग केंद्र में उसे शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित किया गया।”

इस कदर युवती ईसाई युवक के प्यार में डुब चुकी है कि योग केंद्र पर भी उंगलियां उठा रही है। योग केंद्र पर आरोप लगाते हुए हलफनामे में कहा कि योग केंद्र में बंधक महिलाओं का यौन शोषण भी होता था। महिलाओं को योग केंद्र में बंधी बनाकर उन्हें बाइबिल और कुरान की कमियों के बारे में बताया जाता था। कोर्ट ने याचिका दायर कर सुनवाई करेगी। पुरे मामले की जांच की जाएगी क्योकि महिला ने अपने हलफनामे में दावा किया है कि इस योग केंद्र में दूसरी 60 महिलाओं को भी बंधक बना कर रखा गया था जो गैर-धर्म के युवकों से शादी करना चाहती थीं।

* फोटो सांकेतिक हैं 

Share This Post

Leave a Reply