700 मुसलमानों के बीच रह रहे 150 हिन्दुओं ने बताया- “जीना हो चुका है हराम, मौत से बदतर मिल रही प्रताड़ना”

शायद ये घटना उन 49 लोगों के लिए लोकतंत्र तथा संवैधानिक मूल्यों के लिए खतरा नहीं है, जिन्होंने हाल ही में पीएम मोदी को असहिष्णुता का रोना रोते हुए चिट्ठी लिखी है. मामला उत्तर प्रदेश के बरेली का है जहाँ के मिल्क पिछोड़ा गाँव के हिन्दू समुदाय के लोग मुस्लिम उन्मादियों के कारण इतने ज्यादा खौफ में हैं कि वह पलायन करने को मजबूर हैं. इस गाँव के हिन्दुओं का कहना है कि मुस्लिम लोगों के कारण उनका जीना हराम हो चुका है तथा उन्मादी लोग उनको इतना प्रताड़ित कर रहे हैं कि या तो उन्हें पलायन करना पड़ेगा या फिर मुस्लिम बनना पड़ेगा.

दिल्ली में 9 साल की बच्ची का बलात्कार नहीं कर पाया तो गला घोंटकर मार डाला दरिन्दे वसीम ने.. हर तरफ हवस की आंधी

मिल्क पिछोड़ा गांव के हिन्दुओं का कहना है कि गाँव में क़रीब 700 मुस्लिम हैं जबकि हिंदू सिर्फ 150 और आरोपों के मुताबिक़ इसी का फायदा उठाकर बहुसंख्यक मुस्लिम हिंदू परिवारों पर अत्याचर करते हैं. इस पूरे विवाद की वजह ग्राम समाज की ज़मीन पर बना एक मंदिर है जो गांव वालों के मुताबिक़ क़रीब 50 साल पुराना है. गांववालों का दावा है कि वो इस जगह पर छोटा मंदिर बनाना चाहते हैं लेकिन यहां रहने वाले मुस्लिम ऐसा होने नहीं दे रहे. इतना ही नहीं, गांव में रहने वाली हिंदू महिलाओं का आरोप है कि जब ये लोग इस मंदिर में पूजा करने जाती हैं तो मुस्लिम समुदाय के लोग इनसे छेड़खानी करते हैं.

इस्लामिक आतंकवादियों से चीख उठे ब्रिटेन ने जिसे चुना नया प्रधानमंत्री वो माने जाते हैं मुसलमानों के दुश्मन.. जानिये उनके पहले के बयान

हिंदू समुदाय के लोगों का आरोप है कि मामले की शिकायत इलाके के मौजूदा बीजेपी विधायक से लेकर एसडीएम और पुलिस से भी कर चुके हैं लेकिन इनकी सुनने वाला कोई नहीं है. अब गांव के हिंदू परिवार यहां तक कह रहे हैं कि अगर इनकी गुहार पर जल्द फैसला नहीं हुआ तो उन्हें मुस्लिमों के खौफ के कारण या तो इस्लाम अपनाना पड़ेगा या फिर पलायन करना पड़ेगा. हिन्दू समुदाय के लोगो का कहना है कि पुलिस तथा स्थानीय विधायक जो खुद बीजेपी के हैं, वो भी उनकी मदद करने को तैयार नहीं हैं तथा मुस्लिमों का ही पक्ष ले रहे हैं. अब इन लोगों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मदद की गुहार लगाई है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share