भारत की सेना में सैनिक है मह्दीप खान लेकिन मानता है मजहबी क़ानून.. देश के कानून को देश के सैनिक महदीप खान की चुनौती


मह्दीप खान भारतीय सेना में भर्ती हो गया. देश के कानून को मानने की संविधान के अनुसार देश को समर्पित होने की शपथ ले ली, सेना की वर्दी पहन ली लेकिन अपनी मजहबी शरीयत वाली सोच से बाहर न निकल सका. फिर एक दिन वो आया जब देश की सेना के जवान मह्दीप खान ने अपने ही देश के कानून को चुनौती दी, अपने ही देश के कनून को ठेंगा दिखाया तथा आपने मजहबी क़ानून के वशीभूत होकर अपनी पत्नी को तीन तलाक दे दिया.

मामला हरियाणा के भिवानी जिले का है. एक तरफ देश की सरकार बिना कानूनी प्रक्रिया के तीन तलाक के मसले को खत्म करने पर लगी हुई, वहीं आए दिन इस तरह के केस सामने आते रहते हैं. खबर के मुताबिक़आर्मी में तैनात मुस्लिम युवक मह्दीप खान की शादी हुए महज कुछ ही दिन हुए थे कि पहले दहेज के लिए पत्नी को मारपीट कर घर से निकाल दिया.  उसके बाद अब डाक के माध्यम से तलाक तलाक तलाक लिखकर तलाकनामा भेजकर कह दिया अब तलाक समझना, अपने पास नहीं रखूंगा. उधर पीड़ित मुस्लिम लड़की ने इसे स्वीकार करने से मना करते हुए कानून का सहारा लिया है. उसने पुलिस अधीक्षक को शिकायत कर इंसाफ मांगा है.  एसपी के आदेश पर शहर थाना पुलिस ने लड़की के बयान पर आरोपित पति सहित ससुराल पक्ष के 13 व्यक्तियों पर दहेज प्रताड़ना का केस दर्ज किया है.

आपको बता दें कि भिवानी के तोशाम बाईपास की डाबर कालोनी निवासी मुस्लिम समुदाय के ईद मोहम्मद ने अपनी बेटी मोना की शादी 17 दिसंबर 2015 को गांव राजगढ़ जुलाना जींद निवासी आर्मी में कार्यरत मह्दीप खान से की थी. मोना ने बताया कि शादी के चंद दिन बाद ही उसके पति ने गाड़ी की मांग की. यह मांग पूरी न करने पर उसे तंग किया जाने लगा तथा आए दिन उसके साथ मारपीट की जाती.  मोना ने आरोप लगाया कि उसने अपने पति मनदीप से घर चलाने के लिए खर्चा मांगा तो उसने खर्चा भेजने की बजाय एक कागज पर तलाक-तलाक-तलाक लिखकर भेज दिया और कहा कि अब तलाक समझना. मैं अब तुम्हें अपने पास नहीं रखूंगा. वह शादी के बाद करीब दो साल तीन माह से अपने मायके में रह रही है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share