मोहम्मद आलम को पूरे भरोसे के साथ रखा था सिक्योरिटी गार्ड के रूप में उन्होंने… लेकिन उसका कमरा रहता था हमेशा बंद, क्योंकि उसमें होता था कुछ और

आखिर वह कौन सी सोच है जिसके लिए महिला वर्ग सिर्फ उसकी हवस मिटाने का साधन मात्र होती हैं? आखिर वह कौन सी सोच है जिसके निशाने पर अक्सर महिलायें होती हैं तथा वह उनके साथ अपनी हवस की आग बुझाना चाहता है लेकिन असफल होने पर बलात्कार को अंजाम देता है ? महिला के गर्भ से इंसान जन्म लेकर आखिर वह महिला के ही साथ बलात्कार कैसे शर्मशार कृत्य को कैसे कर देता है? ऐसी ही दुराचारी सोच से ग्रसित मोहम्मद आलम मंजर ने देश की राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम को दहला दिया जहां उसने एक 16 वर्षीय नाबालिग के साथ तीन महीने तक कमरे में बंद करके बलात्कार किया. आपको बता दें कि बलात्कारी मोहम्मद आलम प्राइवेट सिक्योरिटी गार्ड है.

खबर के मुताबिक़, बलात्कारी गार्ड मोहम्मद आलम ने पीड़िता को एक कमरे में जबरन तीन महीने तक बंधक बनाकर रखा. गार्ड पीड़िता को गुरुग्राम के पालम विहार स्थित हाउसिंग सोसाइटी से जानता था, जहां दोनों एक साथ काम करते थे. पीड़िता से आलम ने मोबाइल फोन छीन लिया था और हर रोज वह एक बार कमरे पर आता था, पीड़िता को थोडा बहुत खाना देता तथा फिर बलात्कार करता था. पीड़िता पश्चिम बंगाल की रहने वाली है तथा गुरुग्राम में आपने माता पिता के साथ रहती थी. जिस कमरे में गार्ड ने पीड़िता को कैद किया था, वहां हमेशा बाहर ताला लगा रहता था. बलात्कारी आलम पीड़िता के साथ मारपीट करता था और उसे डराता धमकाता था, जिससे कि वह कभी उसके खिलाफ विद्रोह ना कर पाए. मई माह से आलम ने पीड़िता को कमरे में बंद कर रखा था. लाख प्रयास के बाद भी पीडिता के माता पिता अपनी बेटी को तलाश नहीं पाए थे.

मोहम्मद आलम मंजर 22 अगस्त को पीड़िता के कमरे में बाहर से गलती से ताला लगाना भूल गया, जैसे ही पीड़िता ने देखा कि वह यहां निकल सकती है तो वह मौका पाकर वहां से भाग निकली. किसी तरह से वह अपने माता-पिता तक पहुंची और शुक्रवार 24 अगस्त को पुलिस ने आलम को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया. आलम को शनिवार को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. साथ ही बजघेड़ा पुलिस स्टेशन में उसके खिलाफ धारा 323 , 344 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है. पीड़िता ने पुलिस को बताया कि उसका परिवार गुरुग्राम में काफी सालों से रह रहा था, उसकी मां घर में बर्तन माजने और साफ-सफाई का काम करती थी. मोहम्मद आलम पीड़िता के घर-परिवार के बारे में अच्छे से वाकिफ था, इसीलिये पीड़िता के माता-पिता को मंजर पर कतई शक नहीं था. पुलिस को दिए अपने बयान में पीड़िता ने कहा है कि मंजर ने मुझे एक कमरे में बंधक बनाए रखा, जहां हमेशा अंधेरा रहता था, वहां वह शराब पीता था और मेरे साथ रेप करता था. पीटता था और नशीली दवा पिलाकर चला जाता था.


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share