Breaking News:

दिव्यांग बच्चा रो रहा था लेकिन शौहर चीख रहा था.. फिर गूंजे तीन शब्द और तबाह हो गया एक जीवन

जब एक बच्चा रो रहा हो हर माँ सब कुछ छोड़कर उसको चुप कराने का प्रयास करती है, उसे प्यार देती है. माँ को इसीलिये तो ममता की मूर्ती कहा जाता है. बिलकुल यही स्थिति बच्चे के पिता की भी होती है, एक पिता भी कभी अपने बच्चे को कभी रोता हुआ नहीं देख सकता लेकिन हरियाणा के मेवात के फिरोजपुर झिरक की रहने वाली शकीला के घर में इसका बिलकुल विपरीत हुआ. एक तरफ शकीला दिव्यांग का बच्चा रो रहा था तो दुसरी तरफ उसका शौहर चीख रहा था. शकीला अपने दिव्यांग बच्चे को रोते हुआ नहीं देख सकी तथा उसको चुप कराने लगी, इसके बाद एकदम से शकीला के कानों में वो तीन शब्द गूंजे, जिन्होंने शकीला के जीवन को बर्बाद कर दिया.

खबर के मुताबिक, फिरोजपुर झिरक स्थित सकीला के घर में सोमवार दोपहर तक सब कुछ ठीक था, दोपहर में पति ने पीने के लिए शिकंजी मांगी. पत्नी बड़े शौक से नमक, चीनी और नींबू डालकर शिकंजी तैयार की. तभी शकीला का दिव्यांग बच्चा रोने लगा तो शकीला ने पहले अपने बच्चे को शिकंजी दे दी लेकिन यह बात पति को नागवार गुजरी. गुस्से में पत्नी को पीट-पीटकर अधमरा करके तीन तलाक दे दिया. अपनी मां को बचाने के लिए दो बच्चे अपने पिता के हाथ-पैरों में लिपट गए लेकिन उसके सिर पर दरिंदगी सवार थी और उसने बच्चों की भी पिटाई कर दी. मां और बच्चों के रोने की आवाज सुनकर पड़ोस के लोग मौके पर पहुंच गए. उन्होंने सभी को खंड के सामान्य अस्पताल मांड़ीखेड़ा में इलाज के लिए भर्ती कराया. यह घटना सोमवार दोपहर की है. सोमवार रात को महिला ने फिरोजपुर झिरका थाने में पुलिस को लिखित में शिकायत दी.

तलाक की सूचना मिलते ही मालब गांव से सकीला के परिजन आ गए. मांड़ीखेड़ा अस्पताल में भर्ती सकीला मालब ने अमर उजाला से बातचीत में बताया कि उसकी शादी करीब 20 वर्ष पहले दोरक्खी गांव में हुई थी. अमर उजाला वह तीन बच्चों की मां है, एक बच्चा जन्म से दिव्यांग है. 11 जून की दोपहर में पति मुबीन ने शिकंजी बनवाई थी, जोकि मैंने करके दिव्यांग बच्चे के रोने की वजह से पहले उसे दे दी. इससे मेरा पति गुस्से में चूर हो गया और मुझसे कहा कि पहले शिकंजी मुझे क्यों दी. गुस्से में आकर उसने तीन तलाक दे दिया. महिला का आरोप है कि कुछ दिन पहले भी पति मुबीन, ससुर सुलेमान, सास खातूनी, देवर इमरान, ननद फिरदौस ने बिना वजह मेरे साथ मारपीट की थी. महिला का कोई भाई व मां नहीं है. पिता भी बुजुर्ग हैं, इसलिए वह जुल्म बर्दाश्त करती आ रही है. मंगलवार को साढ़े 11 बजे नगीना के मांड़ीखेड़ा अस्पताल में महिला का एक्सरे हुआ. स्थानीय पुलिस का कहना है कि मामला संज्ञान में आया है तथा कार्यवाही की जा रही है.

Share This Post