अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस- तीन बहिनों की राष्ट्र के प्रति सेवाभाव व समर्पण की शौर्य गाथा….जानिये कौन हैं ये वीर बेटियां भारत कीं

आज अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर सुदर्शन परिवार समस्त मातृशक्ति को नमन वन्दन करता है. आज हमारे देश की महिलाएं बेटियां हर क्षेत्र में अपनी मेहनत, परिश्रम, साहस, तथा समपर्ण से सफलता के नयी कीर्ति,आन स्थापित कर रही हैं तथा न सिर्फ अपने माता पिता वरन राष्ट्र का भी नाम रोशन कर रही हैं. आज महिला दिवस पर हम आपको ऐसी ही एक ही परिवार की तीन बहिनों के बारे बताने जा रहे हैं जो तीनों की तीनों भारतीय सेना में लेफ्टिनेट हैं.

देश के सेवाभाव, समर्पण तथा जूनून हो तो इन तीन बहिनों जैसा. बेहद की साधारण किसान पिटा की बेटियां आज सेना में हैं तथा राष्ट्र की सेवा कर रही हैं. इनके पिटा ने इनको बहुत से पला पोषा, बढाया और आज तीनों से सेना मैं जाकर अपने पिता का सर गर्व से ऊंचा किया है. हरियाणा के रोहतक के किसान प्रताप सिंह सिंह देशवाल की दो बेटियां प्रीति देशवाल तथा दीप्ति देशवाल व उनकी भतीजी ममता देशवाल में बचपन से ही सेना में जाने का जूनून था और तमाम चुनौतियों तथा कठिनाइयों को पीछे छोड़ते हुए दो सगी बहिनों तथा एक कजिन सिस्टर ने अब सेना की मेडिकल कौर में लेफ्टिनेंट के पद पर ज्वाइनिंग हासिल की है.

प्रताप सिंह देशवाल बताते हैं कि ममता भी मेरी बेटी ही है मैंने हमेशा से उसको प्रीटी व दीप्ति के समझा है तथा पढ़ाया है. उन्होंने कहा कि हमारे परिवार में कोई सेना में नहीं है. लेकिन बेटियों ने जब अपनी सोच बताई तो अजीब लगा. लेकिन बेटियों की जिद के कारण सेना में भेजने का फैसला किया तथा पढ़ाई शुरू कराई. हालांकि पढ़ाई महंगी थी और खेतीबाड़ी के सहारे सब मुमकिन नहीं था, लेकिन बेटियों को बेटों की तरह पाला और दिन-रात मेहनत कर बेटियों को लेफ्टिनेंट बनाकर ही दम लिया.

प्रताप सिंह कहते हैं कि हमारे हरियाणा पहले बेटियों को पढ़ाना लिखाना गलत समझा जाता तथा लेकिन अब पूरा हरियाणा मेरी बेटियों पर गर्व करता है. अब में महसूस करता हूँ कि बेटे की पढ़ाई से एक घर आगे बढ़ता है लेकिन बेटियों की पढ़ाई से दो घर संभलते हैं. ममता देशवाल कहती हैं कि मेरे चाचा प्रताप देशवाल ने हमेशा से मुझे अपनी बेटी की तरह आगे बढ़ाया है व मेरी पढाई का सारा खर्च खुद उन्होंने ही वहां किया है. मेरे लिए वो मेरे पिता से बढ़कर हैं

आर्मी मेडिकल कोर में भर्ती होने के बाद तीनों बहिनों को अलग-अलग राज्य में ज्वानिंग मिली है. प्रीति देशवाल ने कोलकाता से पढ़ाई की है व वो अब तमिलनाडु के वैलिंगटन ऊटी में मिलिट्री अस्पताल में काम करेगी. मुंबई में पढ़ी दीप्ति को यूपी के आगरा में ज्वानिंग मिली है तथा पुणे के आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज में पढ़ी ममता को उत्तराखंड के रानीखेत में ज्वानिंग मिली है.

सुदर्शन टीवी चैनल भारतमाता की इन तीनो बेटियों सहित समस्त मातृशक्तियों को महिला दिवस की बधाई देते हुए एक बार पुनः नमन वंदन करता है.

Share This Post

Leave a Reply