गौ माता का कत्ल एक बार फिर हुआ झारखंड शहर में… गौ मां की लाश देख बेकाबू हुए गौरक्षक

भारत जैसी पावन धरती पर जहाँ गाय को माता माना जाता है उसी भारत में कुछ विशेष समुदाय द्वारा उसको बेरहमी से काट दिया जाता है। ऐसे में जब देश में मोदी सरकार ने गायों की बिक्री पर पूरी तरह से रोक लगा दी है इसके बावजूद भी कुछ तथाकथित लोग ऐसे है जो गौहत्या को अंजाम देते हैं। बता दें कि झारखंड के गिरीडीह जिले बेरिया हतीतांद में मंगलवार को एक शख्स उस्मान अंसारी के घर के बाहर मृत गाय मिलने से लोगों में काफी आक्रोश देखा गया जिससे आक्रोशित जनता ने उस्मान अंसारी की पिटाई कर दी और उसके घर को आग के हवाले कर दिया। 
मामले की जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की जानकारी ली। झारखंड पुलिस के एडीजी आर के मुल्लिक ने बताया कि सुरक्षाबलों और पुलिस अधिकारी ने भीड़ को रोकते हुए अंसारी और उसके परिवार वालो को बचाया। उन्होंने कहा कि जब पुलिस अंसारी को लेकर अस्पताल जा रही थी, तब भी भीड़ ने एक बार फिर उनका रास्ता रोकने की कोशिश की और पत्थरबाजी भी की। इस बीच पुलिसकर्मियों को भीड़ को तितर-बितर करने के लिए हवाई फायर करना पड़ा। 
बताया जा रहा है कि इस पत्थरबाजी में एक शख्स के समेत 50 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। एडीजी आर के मुल्लिक ने कहा कि पड़ित और अंसारी को अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है, जहां उनकी हालत स्थिर बनी हुई। बता दें कि इससे पहले पश्चिम बंगाल के दिनाजपुर जिले में कुछ गौ-तस्कर गायों की चोरी करने के इरादे से गांव आए जिसके बाद गांव वालों को इसकी भनक लग गई और उन्होंने उन गौ-तस्करों की पिटाई कर दी। 
Share This Post