Breaking News:

बार-बार हो रहे दंगों से ममता बनर्जी को आया होश. चाह रही चारों तरफ शांति ही शांति…

जिस स्टेट में आये दिन हिन्दुओं पर पत्थर बरसाये जाते है। उनकी जान माल को नुकसान पहुँचाया जाता है। आये दिन वहाँ से हिन्दुओं की पलायन की खबरे आती है। पश्चिम बंगाल सरकार अब जाके चिंतन मोड में आयी है। गौरतबल है कि कल ही ममता ने राज्यपाल पर आरोप लगाते हुए कहा था कि राज्यपाल ने फ़ोन पर उनको धमकी दी है। पश्चिम बंगाल की मुख़्यमंत्री ममता बनर्जी सांप्रदायिक मामलों से निपटने के लिए बूथ स्तर पर शांति रक्षक बलों का गठन करने का फैसला लिया है। 
उन्होंने यह भी कहा कि राज्य प्रशासन और पुलिस शांतिरक्षक बलों की सहायता करेंगे। मुख़्यमंत्री 24 परगना जिले के बदुरिया में स्थिति को समान्य बताया और साथ ही साथ उन्होंने बीजेपी पर राज्य में सांप्रदायिक उन्माद फैलाने का संगीन आरोप भी लगाया है। उधर, बीजेपी राजभवन में ममता सरकार को इस बार बख्शने के मूड में नहीं नज़र आ रही। राज्यपाल ने बुधवार को बयान जारी करते हुए कहा कि ममता बनर्जी के आरोप उनके खुद (राज्यपाल) के और दफ्तर की बेइज्जती और अपमान के समान करार दिया है और वो अपमानित महसूस कर रहे है। 
केसरीनाथ त्रिपाठी ने कहा कि बेहतर होगा आरोप प्रत्यारोप लगाना छोड़ ममता सरकार कानून वयवस्था पर ध्यान दें और उसे दुरुस्त करने पर जोर लगाए। वहीं, बीजेपी ने अपनी आवाज बुलंद करते हुए पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है। बीजेपी के विजयवर्गीय ने पश्चिम बंगाल के हालात को बद से बदतर बताया। आपको बता दें कि फेसबुक पर 17 साल के एक युवा के पोस्ट से ये सांप्रदायिक हिंसा ने तूल पकड़ा है, जिसके बाद केंद्र ने इस हिंसा पर समन लेते हुए 400 अर्ध सैनिक बलों को हालात सुधारने के लिए भेज दिया है।
 
आये दिन पश्चिम बंगाल से हिन्दुओ के पलायन की खबरे आती रहती है और बीजेपी ने तल्खी से ममता सरकार पर आरोप लगाते हुए कहां की उतरी 24 परगना में मुस्लिम समुदाय से 2000 लोगो ने हिन्दू परिवारों पर हमला कर दिया। कैलाश विजयवर्गीय ने टिवीट करते हुए लिखा की बंगलादेशी मुस्लिम घुसपैठि दवारा मौत का तांडव पश्चिम बंगाल में जारी है। 
Share This Post