नक्सलियों से निपटने के लिए तैयार है भारत. जिंदगी की भीख मांगेंगे नक्सली, लेकिन मिलेगी मौत…

रांची : सुकमा हमले के बाद से ही सरकार नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई तेज कर रही है। नक्सलियों से निपटने के लिए छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले और इसके आसपास कोबरा बटालियन के 2,000 अतिरिक्त कमांडो को शामिल किया जाएगा।

नक्सलियों और उनके हथियारों को तबाह करने के लिए भेजे जाने वाले कमांडो विशेष छापामार दस्ता कोबरा बटालियन के होंगे। सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को बताया कि सुकमा और आसपास के इलाकों में सुरक्षा बल के जवानों पर 24 अप्रैल को हुये हमले के बाद हाल ही में नक्सलियों के अब तक के सबसे घातक हमलों को देखते हुये यह फैसला किया गया है।

बता दें जब जवानों की टीम रोड ओपनिंग के लिए निकली थी। सड़क निर्माण की सुरक्षा में लगे ये जवान खाना खाने की तैयारी कर रहे थे उसी दौरान घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने जवानों पर गोलीबारी शुरू कर दी। खास बात यह है कि 2010 में इसी जगह हुए नक्सली हमले में 76 जवानों की मौत हो गई थी। फिलहाल, घटनास्थल पर सीआरपीएफ की कोबरा टीम तलाशी अभियान चलाया जा रहा है।

इस घटना के बाद दूसरे इलाक़ों में भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है। अधिकारी ने कहा, ‘केवल गुप्तचर सूचना पर कोबरा का अभियान टिका होता है। अत्यंत प्रशिक्षित कमांडो की टीम तैयार की गई है। ये कमांडो दुश्मन को निष्प्रभावी कर देते हैं और उनके ठिकाने ध्वस्त करते हैं। कमांडो नक्सलियों के टसीओसी को बड़ा झटका देने में सक्षम होते हैं।’ हर वर्ष गर्मियों में नक्सली सुरक्षा बल के जवानों की जान लेने के लिए टैक्टिकल काउंटर अफेंसिव कैंपेन (टीसीओसी) चलाते हैं।

Share This Post