शामली के पुलिस अधीक्षक अजय कुमार को DGP से मिला प्रशस्ति पत्र.. बदल कर रख दी है शामली की तस्वीर

यदि आप को जनपद शामली गए काफी समय हो गया है और आपके मन में वहां की छवि साल भर पहले की या उस से पहले की है तो निश्चित तौर पर आप को एक बार दुबारा वहां जाने की जरूरत है..  भौगोलिक संरचना आपको वैसे ही मिलेगी लेकिन सामाजिक संरचना बहुत बदली दिखेगी.. अब आपको वहां सामाजिक सौहार्द दिखेगा और सबसे खास बात ये है कि बहुत विकसित जगहों में न गिने जाने के बाद भी अब आप वहां किसी भी समय आ और वहां से जा सकते हैं ..

इसका सीधा सम्बन्ध वहां की कानून व्यवस्था से है जो आश्चर्यजनक रूप में बदली हुई है .. सबसे खास बात ये है कि इस व्यापक बदलाव के लिए खून नही बहा , हाँ शामली पुलिस के जवानो ने अपने वर्तमान कप्तान अजय कुमार के नेतृत्व में पसीना जरूर बहाया है .. मित्र पुलिस की कार्यशैली का असल रूप अगर देखना होगा तो इसके लिए शामली जनपद सर्वोत्तम माना जाएगा क्योकि वहां जो जमीनी हकीकत दिखेगी वो मीडिया के शब्दों में शायद लिखने और बताने योग्य न हो .

ध्यान देने योग्य है कि सज्जनों के लिए अपनी बेहद मिलनसार छवि और अपराधियों के लिए उतनी ही कठोर कार्यवाही के लिए विख्यात IPS अजय कुमार के सत्कर्मो की गूँज अब उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी सुनाई दी है . उत्तर प्रदेश के DGP श्री ओ पी सिंह ने एस पी शामली अजय कुमार को लोकसभा चुनावों में शामली पुलिस का बेहद कुशल नेतृत्व करने व शांतिपूर्ण और सौहार्दपूर्ण मतदान करवाने के लिए प्रशस्ति पत्र दे कर सम्मानित किया है ..

शामली जनपद का अगर पुराना इतिहास देखा जाय तो वर्ष २०१९ में लोकसभा चुनावों के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए वहां का चुनाव एक चुनौती माना जा रहा था लेकिन आईपीएस अजय कुमार के कुशल नेतृत्व में क्या मजाल जो पूरे शामली में पत्ता भी हिला हो और बिना धन या बल के दुरूपयोग के एक निष्पक्ष चुनाव हुआ जो चुनाव आयोग की अपेक्षाओं पर खरा था.. अगर शामली की जनता के दृष्टिकोण से देखा जाय तो तमाम लोगों ने पुलिस अधीक्षक शामली इस सम्मान के पात्र बताया क्योकि जनता के अनुसार एक बड़े समय के बाद ऐसा देखने को मिला है जब समाज का हर वर्ग सुखी और शांतिपूर्ण जीवन व्यतीत कर रहा है .. सिवाय अपराधियों को छोड़ कर ..

Share This Post