Breaking News:

इस बार मौलवियों ने विरोध किया है उस पार्टी का जो बिल्कुल अप्रत्याशित है


लोकसभा चुनावों को लेकर देश में मचे राजनैतिक घमासान के बीच अब इस्लामिक मौलवी भी मैदान में आ गये हैं तथा उन्होंने देश की एक राजनैतिक पार्टी से अपना विरोध जताया है. इन इस्लामिक मौलवियों ने उस राजनैतिक पार्टी से अपनी नाराजगी जताई है, जिसके ये हमेशा से हमदर्द रहे हैं..इसलिए इनका ये विरोध, ये नाराजगी अप्रत्याशित लग रही है.

खबर के मुताबिक़, इस्लामिक मौलाना-मौलवियों ने समाजवादी पार्टी से खुलकर नाराजगी दिखाई है, जिससे सपा नेतृत्व की चिंता बढ़ गई है. इस्लामिक मौलानाओं ने मुस्लिमों को कम टिकट दिये जाने पर गहरी नाराजगी जताते हुए समाजवादी पार्टी पर सवाल उठाए हैं. मौलानाओं ने अखिलेश को पत्र भेजकर फूलपुर व इलाहाबाद से मुस्लिम प्रत्याशी को टिकट देने की मांग की है.

कश्मीर में अलग PM की बात करने वाले नेता ने पहले लिया था “अल्लाह” का नाम

इस्लामिक मौलानाओं की ओर से भेजे गए खुले पत्र में कहा गया है कि सपा ने कानपुर से लेकर गाजीपुर तक एक भी टिकट मुस्लिम प्रत्याशी को नहीं दिया है. जिसकी वजह से मुस्लिम समुदाय व इस्लामिक जानकारों में निराशा है. क्या मुस्लिमों को सीट न देना उनकी रणनीति है? पत्र में कहा गया है कि फूलपुर व इलाहाबाद में मुस्लिम वोटों की संख्या 4 लाख से अधिक है. ऐसे में यहां से मुस्लिम प्रत्याशी को ही टिकट दिया जाना चाहिये.

योगी सरकार को बर्खास्त करने का वादा.. उसके लिए रखी गई है ये शर्त

गौरतलब है कि प्रयागराज स्थित जामा मस्जिद में नमाज के बाद मुस्लिम मौलाना-मौलवियों की अगुवाई में समुदाय की बैठक हुई. जिसमें मुसिलमों के प्रतिनिधत्व पर चिंता व्यक्त करते हुये समाजवादी पार्टी की नीति पर सवाल उठाये गये. कहा गया कि जब हम सपा का सपोर्ट कर रहे हैं तो उन्हें भी हमारा ख्याल रखना चाहिये. आज हमारी आबादी 20 प्रतिशत से अधिक है और ऐसे में हमारे समुदाय के दावेदारों को टिकट ना देना निराशाजनक है. जानकारी देते हुये मुस्लिम मौलाना शुहैबुर्रहमान ने बताया कि हमने अखिलेश यादव को पत्र लिखा है और मांग की है वह इलाहाबाद व फूलपुर से मुस्लिम प्रत्याशी को टिकट दें अगर ऐसा नहीं हुआ तो हम आगे की रणनीति पर विचार करेंगे

चुनावी दौर में जीत के प्रयास का एक कदम और आगे बढाएगें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, देहरादून के लोगों से करेंगे अपने मन की बात


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share