लालू बताएं कि रैली के लिए पैसा किस ने दिया? CBI के बाद इनकम टैक्स भी पड़ा पीछे


सीबीआई के ताबड़तोड़ छापों के बाद जब लालू प्रसाद यादव की दो नंबर की सम्पतिया सबके सामने आयी तो उनकी जान पर बन आयी तो उन्होंने मोदी सरकार को कोसना शुरू कर दिया। जब बिहार में रातो रत सत्ता पलटी और जदयू-राजद की सरकार टूट भाजपा-जदयू की सरकार बनी तो लालू ने बदला लेने के लिए नया बखेड़ा खड़ा किया और सभी विपक्ष को साथ लेकर देश बचाओ भाजपा भगाओ रैली निकाली।

रैली निकालने के बाद लालू मोगाम्बो की तरह खुश हुए लेकिन उनकी ख़ुशी मोगाम्बो की खुशियों की तरह चंद पल की ही मेहमान रही. भाजपा से दुश्मनी निकलने के चक्कर वह भूल गए की हाल फिलहाल में ही उनकी दो नंबर के कारनामे सबके सामने आये थे बावजूद उसके लालू ने जमकर पैसा खर्चा किया। जिस कारण फिर एक बार लालू आयकर विभाग की रडार में चुके हैं.
27 अगस्त को पटना के गांधी मैदान में देश बचाओ भाजपा भगाओ रैली आयोजित की गई थी जिसपर आयकर विभाग की टीडीएस शाखा ने राजद को नोटिस भेज रैली में हुए खर्चे का हिसाब मांगा है। आयकर विभाग ने राजद से खर्चे को लेकर कई सवाल पूछे हैं।जिसमे उन्होंने पुछा कि ” रैली में हुए खर्च के पैसे किसने दिए? रैली में आए वीआईपी गेस्ट को होटल में किसने ठहराया?”
बता दें कि इस रैली में गैर एनडीए दलों के नेताओं का जुटान हुआ था। इस रैली मे पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, कांग्रेस से गुलाम नबी आजाद, समाजवादी पार्टी से यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, जदयू से बागी सांसद शरद यादव और अली अनवर सहित गैर एनडीए दलों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया था. जिसके सारे खर्चे का हिसाब राजद से माँगा गया हैं। इससे लालू का ब्लड प्रेशर फिर से बढ़ता नज़र आ रहा हैं। अगर लालू आयकर विभाग के सवालो का जवाब देने में असमर्थ रहे तो फिर एक बार उनपर गाज गिर सकती हैं। देखना होगा कि घोटालो के लिए मशहूर लालू इस बार क्या हथखण्डे अपनाते हैं खुद को बचाने के लिए। 

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share